पुणे: पुणे में लगातार हो रही भारी बारिश की वजह से लोगों का बुरा हाल है. बारिश और बाढ़ की वजह स यहां मरनेवालों की संख्या 12 से बढ़कर 18 हो गई है. इन सब दिक्कतों को देखते हुए पुणे जिला प्रशासन ने सभी स्कूल और कॉलेजों को बंद करने का आदेश दिया है. पुणें के जिलाधिकारी नवल किशोर राम ने आधी रात को यह सूचना जारी की.

पुणे शहर के लोगों को फिलहाल सबसे बड़ी त्रासदी का सामना करना पड़ रहा है. बुधवार रात चार घंटे की अवधि में शहर में 100 मिमी की तीव्र बारिश के बाद 18 लोगों की मौत हो गई. जबकि कई लोगों की मौत रात के समय में दीवार गिरने और पानी में डूबने से हो गई, स्थानीय डेरियों में मवेशियों सहित 800 से अधिक जानवर मारे गए. सड़कों और पार्किंग स्थल पर लगभग 2,000 से ज्यादा वाहन बाढ़ के पानी में डूबे हुए हैं.

पुणे नगरपालिका आयुक्त सौरभ राव ने कहा कि अम्बिल ओधा नदीं के पास अतिक्रमण और पानी के निकासी रास्तों के संकीर्ण होने की वजह से से पानी के बहाव में बाधा उत्पन्न हुई. इससे प्रभावित क्षेत्रों में लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. यह हाल के वर्षों में पुणे में बारिश से संबंधित सबसे बड़ी त्रासदी है. गुरुवार को आसमान साफ होने के कारण राहत मिली और सारा ध्यान अब कूड़े-कचरे, मलबे को हटाने और सबसे ज्यादा प्रभावित इलाकों में सामान्य स्थिति बहाल करने पर होगा. भारत के मौसम विभाग के प्रमुख अनुपम कश्यपी ने कहा कि 27 सितंबर से बारिश में कमी आ जाएगी.