नई दिल्ली. पालघर उपचुनाव को लेकर शिवसेना नेता संजय राउत ने चुनाव आयोग पर बड़ा आरोप लगाया है. बुधवार को उन्होंने कहा, हमारे लोगों ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को पैसे बांटते हुए रंगे हाथ पकड़ा है. लेकिन चुनाव आयोग ने कोई कार्रवाई नहीं की. चुनाव आयोग की यह निष्क्रियता पूरे देश में देखने को मिल रही है. इसका मतलब है कि चुनाव आयोग राजनीतिक पार्टी की तवायफ की तरह काम कर रहा है.Also Read - Maharashtra News: महाराष्ट्र में क्या फिर साथ आने वाले शिवसेना-BJP? उद्धव ठाकरे के इस बयान से लग रहीं अटकलें...

Also Read - शिवसेना का तंज, 'कभी सोनू सूद की तारीफ करती थी भाजपा, अब उन्हें मानती है ‘टैक्स चोर’'

बता दें कि इससे पहले पालघर उपचुनाव में वोटिंग के दौरान वीवीपीएटी और ईवीएम में गड़बड़ी की भी शिकायत की गई थी. इसके बाद पालघर लोकसभा क्षेत्र में मतदान का समय बढ़ाया गया. इसके बाद कांग्रेस और एनसीपी ने ईवीएम खराबी वाले जगहों पर फिर से मतदान की मांग की थी. हालांकि, इस दौरान पालघर के जिलाधिकारी प्रशांत नारनवरे ने कहा कि प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में 15 प्रतिशत ईवीएम रिजर्व रखे गए थे. Also Read - आरएसएस की तुलना तालिबान से करने में जावेद अख्तर गलत: शिवसेना

ऑडियो क्लिप पर मचा था घमासान
इससे पहले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने सीएम देवेंद्र फडणवीस की एक कथित ऑडियो क्लिप जारी की थी. इसमें फडणवीस बीजेपी कार्यकर्ताओं को चुनाव जीतने के हर तरीका अपनाने के निर्देश दे रहे थे. इसके बाद फडणवीस ने कहा, ऑडियो में छेड़छाड़ की गई है. अगर ऑडियो में उनके द्वारा कही गई बात का मतलब गलत निकलता है तो वह किसी भी कार्रवाई के लिए तैयार हैं.

ये हैं उम्मीदवार
पालघर सीट से शिवसेना ने पूर्व बीजेपी सांसद चिंतामन वनगा के बेटे श्रीनिवास वनगा को उतारा है. वहीं, बीजेपी ने पूर्व कांग्रेस नेता व पूर्व राज्यमंत्री राजेंद्र गावित को अपना उम्मीदवार चुना है. राजेंद्र गावित उत्तर महाराष्ट्र के आदिवासी बहुल जिले नांदुरबार के हैं, जबकि शिवसेना उम्मीदवार श्रीनिवास वनगा स्थानीय हैं.