नई दिल्ली: चुनाव आयोग ने शुक्रवार को सभी राष्ट्रीय और क्षेत्रीय राजनीतिक दलों को पत्र लिखकर कोविड-19 के दौरान देश में होने वाले आगामी चुनावों के प्रचार को लेकर ‘राय और सुझाव’ मांगे हैं. आयोग ने एक पन्ने के अपने पत्र में राजनीतिक दलों से 31 जुलाई तक जवाब देने के लिये कहा. इस साल कुछ राज्यों में उपचुनाव और बिहार विधानसभा चुनाव होने हैं. Also Read - दिल्ली: गंभीर हालत में लाए जा रहे हैं मरीज, दूसरी बीमारियों की वजह से हो रही हैं अधिकतर मौतें

आयोग ने ‘देश में कोविड-19 के मौजूदा हालात’ की ओर इशारा करते हुए कहा कि केन्द्र और राज्य सरकारें सुरक्षा सुनिश्चित करने और देश में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिये आपदा प्रबंधन अधिनियम,2005 तथा कुछ अन्य कानूनों के तहत दिशा-निर्देश जारी कर चुकी हैं. Also Read - मध्यप्रदेश: शिवराज सिंह चौहान ने किया ऐसा ट्वीट की भड़क गई कांग्रेस, कर डाली चुनाव आयोग से शिकायत

चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों को 31 जुलाई 2020 तक अपनी राय और सुझाव भेजने के लिये कहा है ताकि महामारी के दौरान होने वाले चुनावों में राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों द्वारा प्रचार किये जाने को लेकर जरूरी दिशा-निर्देश तैयार किये जा सकें. Also Read - टीका बनाने वाली कंपनी ने पूछा सवाल- क्या कोरोना वैक्सीन के लिए 80,000 करोड़ रुपये का इंतजाम कर पाएगी भारत सरकार?

बिहार के विभिन्न विपक्षी राजनीतिक दलों ने शुक्रवार को चुनाव आयोग से कहा कि वह मतदाताओं को आश्वस्त करे कि आगामी विधानसभा चुनाव संक्रमण के फैलने का बड़ा कारण नहीं बनेंगे. साथ ही उन्होंने शारीरिक दूरी सुनिश्चित करने के लिये प्रत्येक मतदान केंद्र पर मतदाताओं की संख्या 250 तक सीमित करने का भी अनुरोध किया. विपक्षी दलों ने आज शाम आयोग के अधिकारियों के साथ डिजिटल बैठक की. इससे पहले उन्होंने चुनाव आयोग को एक ज्ञापन सौंपकर राज्य में कोरोना वायरस से उत्पन्न हालात की ओर ध्यान दिलाया था.