नई दिल्ली: पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता के लिए अग्निपरीक्षा के रुप में देखे जा रहे थे और मंगलवार की सुबह जब मतगणना शुरू हुई तब नतीजों को लेकर इस बात का संशय बना हुआ था कि क्या यह भाजपा के लिए झटका होगा या नहीं? क्या पार्टी हिंदी पट्टी में अपनी जीत का सिलसिला कायम रख पाएगी या नहीं और क्या वह कुछ एक्जिट पोल को गलत साबित कर पाएगी या नहीं. लेकिन इस सारे तनाव के बीच प्रधानमंत्री ने चुनाव को लेकर मचे हंगामे पर कोई ध्यान नहीं दिया और वह अपने नियमित कार्य और कार्यक्रमों में लगे रहे. Also Read - Madhya Pradesh: 'Tandav' के खिलाफ दो शहरों में FIR, बीजेपी नेता ने उद्धव ठाकरे को भेजा पत्र

Also Read - रेप के आरोपों का सामना कर रहे Dhananjay Munde के खिलाफ कार्रवाई को लेकर NCP प्रमुख शरद पवार ने कही यह बात..

राजस्थान: कांग्रेस विधायक बोले, सीएम का फैसला राहुल गांधी को करना है तो MLAs से क्यों पूछना? Also Read - Pradhan Mantri Awas Yojana: पीएम मोदी ने गरीबों को भेजे 2700 करोड़ रुपए, खातों में आए या नहीं, ऐसे करें चेक

उन्होंने अपना भाषण तैयार किया जो उन्हें बुधवार को स्वास्थ्य सम्मेलन में देना था. वह शीतकालीन सत्र के पहले दिन संसद पहुंचे. प्रधानमंत्री के एक करीबी ने बताया, ‘प्रधानमंत्री के लिए मंगलवार अन्य दिन की भांति व्यस्त कार्यदिवस था. मोदी साढ़े दस बजे संसद पहुंचे और उन्होंने मीडिया से पारंपरिक संवाद में लोगों से जुड़े विषयों पर स्वस्थ बहस और परिचर्चा पर जोर दिया. उन्होंने लोकसभा की कार्रवाई में भाग लिया जो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार को श्रद्धांजलि देने के बाद दिनभर के लिए स्थगित कर दी गयी.

लाखों कांग्रेसियों से ऐप के जरिए उनकी पसंद पूछने के बाद राहुल गांधी आज तय करेंगे कौन बनेगा मुख्यमंत्री

एक अन्य अधिकारी ने बताया, ‘दोपहर में प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश के विकास कार्यो की समीक्षा की. उसके बाद उन्होंने अन्य महत्वपूर्ण बैठकों में हिस्सा लिया. मोदी 16 दिसंबर को रायबरेली और प्रयागराज में विकास परियोजनाओं का शुभारंभ करेंगे. शाम तक यह स्पष्ट हो गया था कि भाजपा तीन हिंदीभाषी राज्यों में हार गयी. अधिकारी के अनुसार, लेकिन मोदी ने देर शाम को अपने भाषण को अंतिम रूप दिया जो उन्हें बुधवार सुबह ‘पार्टनर्स फोरम फॉर मैटरनल, न्यूबोर्न एंड चाइल्ड हेल्थ’ में देना था.

जानिए, तीन राज्यों में राहुल गांधी के मंदिर दर्शन का कांग्रेस को कितना फायदा मिला?

अहम राज्यों -छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्यप्रदेश में करारी हार के अगले दिन बुधवार मोदी ने तड़के अपने दिन की शुरुआत की और उन्होंने नौ बजे विज्ञान भवन में स्वास्थ्य फोरम में हिस्सा लिया. उसके बाद वह सीधे संसद पहुंचे.अधिकारी ने कहा, ‘संसदीय विषयों पर पार्टी के वरिष्ठ सदस्यों के साथ पारंपरिक बैठक के बाद मोदी ने महाराष्ट्र के कल्याण और पुणे के विकास कार्यों की प्रगति की समीक्षा की. वह 18 दिसंबर को इन जगहों पर जाएंगे और परियोजनाओं का शुभारंभ करेंगे. अधिकारी ने बताया, ‘उन्होंने 14 दिसंबर को केरल और और 15 दिसंबर को तमिलनाडु में मतदान केंद्र स्तर के कार्यकर्ताओं के साथ वीडियो कॉल पर बातचीत करने की योजना को भी अंतिम रूप दिया.

(इनपुट-भाषा)