जम्मू: जम्मू एवं कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि किसी को भी राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के बयान को गंभीरता से नहीं लेना चाहिए क्योंकि उनकी पार्टी पीपुल्स डेमोक्रेटिक फ्रंट (पीडीपी) टूट रही है और वह सुरक्षाबलों और देश की राजनीतिक प्रणाली के खिलाफ बयान देकर अपनी पार्टी को बचाने की कोशिश कर रही हैं. एक समारोह से इतर जम्मू में बुधवार को राज्यपाल ने मीडियाकर्मियों से कहा, “चुनाव आने वाले हैं, उनकी पार्टी टूट रही है. उनकी पार्टी सही स्थिति में नहीं है.”

प्रियंका गांधी के साथ ED ऑफिस पहुंचे रॉबर्ट वाड्रा, चल रही पूछताछ

राज्यपाल मलिक ने कहा, “वह भारत-विरोधी भावनाओं को भड़काकर सत्ता में आना चाहती हैं. उन्होंने कहा, चुनाव का वक्त है, उनकी पार्टी टूट रही है, खराब हाल में है. वो इसी किस्म के सपोर्ट से ताकत में आई थीं, उनको सीरियसली लेने की जरूरत नहीं. हमारे सुरक्षा बलों का किसी महबूबा मुफ्ती जी के बयान से मनोबल नहीं गिरने दिया जाएगा.

महबूबा अपने हालिया बयानों में, राज्यपाल और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर हमलावर रही हैं. उन्होंने दोनों पर ‘देश के लोकतांत्रिक ढांचे की आत्मा और भावना’ को नुकसान पहुंचाकर हिंदुत्व के एजेंडे को आगे बढ़ाने का आरोप लगाया था.