नई दिल्ली। चुनाव आयोग मध्यप्रदेश, मिजोरम, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना में विधानसभा चुनाव एक साथ कराने की संभावनाओं पर गौर कर रहा है और पांच राज्यों में चुनाव प्रक्रिया दिसंबर के दूसरे सप्ताह तक पूरी हो सकती है. चुनाव आयोग के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने बुधवार को कहा कि पुराने चुनावी कार्यक्रम को देखते हुए छत्तीसगढ़ में दो चरणों में मतदान हो सकता है जबकि अन्य राज्यों में एक चरण में ही मतदान संपन्न हो सकता है. Also Read - Rajasthan: तांत्र‍िक ने यौन शोषण के Video Viral क‍िए, 4 पीड़ित महिलाओं से लाखों रुपए भी ठग ल‍िए

Also Read - राजस्‍थान के दलित का हरियाणा में जबरन धर्म परिवर्तन कराया, जांच शुरू

तेलंगाना विधानसभा चुनाव की गहमागहमी Also Read - मास्क पहनने को अनिवार्य बनाने के लिए कानून बनाएगी राजस्थान सरकार, विधानसभा में विधेयक लाया जाएगा

तेलंगाना में विधानसभा चुनाव कराने की तैयारियां तेज करते हुए आयोग ने शनिवार को घोषणा की थी कि आठ अक्तूबर को अंतिम मतदाता सूची प्रकाशित होगी. आयोग ने राज्य विधानसभा को समयपूर्व भंग किये जाने के बीच मतदाता सूची में संशोधन की प्रक्रिया रोक दी थी.

तेलंगाना में विधानसभा भंग: फील गुड फैक्‍टर का फायदा या बेटे को उत्‍तराधिकार सौंपना चाहते हैं केसीआर?

आठ अक्तूबर को अंतिम मतदाता सूची प्रकाशित की जाएगी जिसका मतलब यह हुआ कि इस तारीख के बाद किसी भी समय चुनाव हो सकता है. नई मतदाता सूची सामने आने के बाद आयोग कानूनी रूप से चुनाव कार्यक्रम घोषित करने के लिए तैयार होगा.

बता दें कि टीआरएस प्रमुख चंद्रशेखर राव ने तेलंगाना सरकार का कार्यकाल पूरा होने से 9 महीने पहले ही विधानसभा भंग करने की सिफारिश कर दी थी. उन्हें फिलहाल कार्यवाहक सीएम बनाया गया है. मध्यप्रदेश, राजस्थान, मिजोरम और छत्तीसगढ़ में इस साल के अंत तक चुनाव होने हैं. ऐसे में तेलंगाना में तुरंत चुनाव कराने की बजाए इन चार राज्यों के साथ ही चुनाव कराने पर फैसला हो सकता है.