नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को राम जेठमलानी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि देश ने असाधारण प्रतिभा के धनी वकील और एक प्रतिष्ठित शख्स को खो दिया जिसने अदालतों और संसद में काफी योगदान दिया. जेठमलानी का 95 वर्ष की आयु में रविवार को नयी दिल्ली में उनके आधिकारिक आवास पर निधन हो गया.

मोदी ने कहा कि जेठमलानी ‘‘हाजिरजवाब, साहसी और किसी भी विषय पर खुद को निडरतापूर्वक अभिव्यक्त करने से न हिचकने वाले व्यक्ति थे.’’ प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘श्री राम जेठमलानी जी के निधन से भारत ने एक असाधारण प्रतिभा के धनी वकील और प्रतिष्ठित व्यक्ति को खो दिया जिसने अदालतों और संसद में काफी योगदान दिया.’’

मशहूर वकील राम जेठमलानी का निधन, अटल सरकार में रहे थे कानून मंत्री

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी शोक जाहिर किया है. कोविंद ने कहा कि जेठमलानी खुद को व्यक्त करना जानते थे. गृहमंत्री अमित शाह ने राम जेठमलानी के निधन पर शोक जताया है. गृह मंत्री ने कहा कि जेठमलानी एक अच्छे इंसान थी थे. उनका निधन बड़ी क्षति है. केंद्रीय कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने भी दुःख जाहिर किया है.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी के निधन पर रविवार को शोक व्यक्त किया. कांग्रेस पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर लिखा, ‘‘ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री राम जेठमलानी के निधन पर शोक जताया है. उन्होंने उनके परिवार और दोस्तों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त की हैं. ’’

बता दें कि आज सुबह देश के मशहूर और दिग्गज वकीलों में शुमार राम जेठमलानी का निधन हो गया. वह 95 साल के थे. लंबे समय से बीमार राम जेठमलानी ने आज सुबह दुनिया छोड़ दी. अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में वह केंद्रीय कानून मंत्री रहे थे. फिलहाल आरजेडी से राज्यसभा सांसद थे. उनके बेटे महेश जेठमलानी ने बताया कि कुछ दिन बाद 14 सितंबर को राम जेठमलानी का 96वां जन्मदिन आने वाला था. महेश जेठमलानी ने बताया कि उनके पिता का अंतिम सरकार यहां लोधी रोड स्थित शवदाहगृह में शाम को किया जाएगा.