नई दिल्ली/श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा स्थित हंदवाड़ा में शुक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात से शुरू मुठभेड़ अभी तक चल रही है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसमें सीआरपीएफ के दो अधिकारी और जम्मू-कश्मीर पुलिस के 2 जवानों के शहीद होने की सूचना है. वहीं, चार स्थानीय लोग भी जख्मी बताए जा रहे हैं.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, बाबागुंड इलाके में सुरक्षाबलों के सर्च ऑपरेशन के दौरान आतंकियों ने जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी. इसमें 9 जवान जख्मी हुए, उधर, राजौरी और पुंछ जिलों में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास इलाकों में पाकिस्तान की ओर से लगातार आठवें दिन भारी गोलाबारी की गई.

खुफिया जानकारी के बाद शुरू हुई थी कार्रवाई
अधिकारियों ने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया जानकारी मिलने के बाद सुरक्षा बलों ने शुक्रवार को सुबह कुपवाड़ा जिले के बाबागुंड इलाके में घेराबंदी कर तलाश अभियान शुरू किया था. उन्होंने बताया कि तलाश अभियान के दौरान आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी जिसके बाद सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाई की. अधिकारियों ने बताया कि दिन में कई बार बीच-बीच में गोलीबारी बंद हुई लेकिन जैसे ही सुरक्षाकर्मी एक घर की ओर बढ़े तो आतंकवादियों ने फिर गोलियां चलानी शुरू कर दीं. इसी घर में आतंकवादी छिपे हुए थे.

अंधांधुध फायरिंग
आतंकियों ने सुरक्षा बल के जवानों पर अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी. इसमें नौ सुरक्षाकर्मी घायल हो गये जिनमें से पांच की मृत्यु हो गयी. अधिकारियों के अनुसार मारे गये लोगों में सीआरपीएफ के एक निरीक्षक और एक जवान, सेना के दो जवान तथा एक पुलिसकर्मी शामिल हैं. मुठभेड़ स्थल के पास ही युवाओं के एक समूह और सुरक्षाकर्मियों के बीच झड़प हुई. इसमें वसीम अहमद मीर नामक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया. उसे अस्पताल पहुंचाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे ‘मृत’ घोषित कर दिया.