नई दिल्लीः मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी की समस्याएं बढ़ती जा रही हैं. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रतुल पुरी के खिलाफ वीवीआईपी हेलिकॉप्टर सौदे से संबंधित धनशोधन मामले में आरोप पत्र दाखिल किया. विशेष सीबीआई न्यायाधीश अरविंद कुमार के समक्ष आरोप पत्र दायर किया गया और मामले पर सुनवाई भोजनावकाश के बाद होगी.

इस मामले में यह छठा पूरक आरोप-पत्र है, जबकि रतुल पुरी के खिलाफ पहला आरोप-पत्र है. पुरी के अलावा एक और आरोपी का नाम आरोप-पत्र में है. रतुल पुरी को उनकी कंपनियों के माध्यम से अगस्ता वेस्टलैंड सौदे में रिश्वत प्राप्त करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है.

जांच एजेंसी ने आरोप लगाया है कि रतुल पुरी के स्वामित्व और संचालन वाली फर्मों से जुड़े खातों का इस्तेमाल अगस्ता वेस्टलैंड के सौदे में रिश्वत और धनशोधन के पैसे प्राप्त करने के लिए किया गया था. रतुल पुरी अभी न्यायिक हिरासत में है. 25 अक्टूबर को अदालत ने पुरी को हिरासत में भेजा था.

आपको बता दें कि सीबीआई ने 17 अगस्त को रतुल पुरी के खिलाफ मामला दर्ज किया था और कहा था कि उसने अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर की खरीद में बिचौलिए की भूमिका निभाई थी और इसमें उसने करोड़ों रुपये का लाभ लिया था.