नई दिल्ली: दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि पार्टी आगामी विधानसभा चुनावों के लिए टिकट बंटवारे को लेकर “पूरी तरह लोकतांत्रिक” प्रक्रिया अपना रही है और सभी पात्र नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को टिकट के लिए आवेदन करने की अनुमति होगी.

उन्होंने हालांकि स्पष्ट किया कि टिकट बंटवारे में प्रत्याशी के जीतने की संभावना मुख्य कसौटी होगी. तिवारी ने कहा कि भाजपा के टिकट बंटवारे की प्रक्रिया पूरी तरह लोकतांत्रिक होगी और पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं को आवेदन करने की अनुमति दी जाएगी. इससे पहले ऐसी खबरें आ रहीं थीं कि पार्टी इस बार उन नेताओं को टिकट नहीं देने पर विचार कर सकती है जो 2013 और 2015 के विधानसभा चुनावों में हार गए थे.

दिल्ली की 70 सदस्यीय विधानसभा के लिए चुनाव की तिथियां जल्द घोषित की जाएंगी. विधानसभा चुनाव, 2015 में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी को 67 सीटें, जबकि भाजपा को महज तीन सीट मिली थी. तिवारी ने कहा कि टिकट बंटवारे की प्रक्रिया लोकतांत्रिक होगी, लेकिन साथ ही प्रत्याशियों के जीतने की संभावना पर जोर भी दिया जाएगा. इसके अलावा लोकप्रियता और साफ छवि को भी ध्यान में रखा जाएगा.

तिवारी ने कहा कि टिकट चाहने वालों की सूची लंबी है लेकिन जिन्हें किसी निर्वाचन क्षेत्र में पसंद किया जाता है और जिनका ट्रैक रिकॉर्ड साफ है, वे स्वाभाविक रूप से पहली पसंद होंगे.” भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व आगामी चुनावों के लिए संभावित प्रत्याशियों के नाम चुनने के लिए तीन सर्वेक्षण करा रही है.