लखनऊ: मुंबई की आरे कॉलोनी में हुई पेड़ों की कटाई पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शनिवार को कहा कि उच्च न्यायालय ने माना है ‘आरे’ जंगल नहीं है और जहां जंगल है, आप वहां पेड़ नहीं काट सकते हैं. उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि ‘दिल्ली में मेट्रो आज दुनिया में सबसे अच्छी मेट्रो है. बाहर के देशों के लोग यहां आकर मेट्रो को देखते हैं कि इसका विकास कैसे हुआ.

उन्होंने बताया जब पहला मेट्रो स्टेशन बना तो 20-25 पेड़ गिराने की जरूरत थी, तो लोगों ने इसका विरोध किया लेकिन एक पेड़ के बदले पांच पेड़ लगाए गए और पिछले 15 साल में पेड़ बड़े हो गए हैं. वहां 271 स्टेशन बने, दिल्ली का जंगल भी बढ़ा, पेड़ भी बढ़े और दिल्ली में तीस लाख लोगों के लिए सार्वजनिक परिवहन की व्यवस्था हुई. मतलब यही है कि विकास भी और पर्यावरण की रक्षा भी, दोनों साथ में हुए.

आरे कॉलोनी में आधी रात को पेड़ काटे जाने पर बॉलीवुड सेलिब्रिटीज ने मचाया सोशल मीडिया पर हंगामा, देखें POSTS

यह पूछने पर कि भाजपा की सहयोगी शिवसेना भी इन पेड़ों को काटने का विरोध कर रही है, उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ नहीं है, अगर कहीं पेड़ काटे जाते हैं तो उससे अधिक लगाए भी जाते हैं.

केंद्रीय पर्यावरण और सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर आज शनिवार को लखनऊ में थे. भाजपा कार्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में उन्होंने सरकार की आर्थिक नीतियों की जमकर तारीफ करते हुए कहा कि पूरी दुनिया में मंदी है और भारत पर भी इसका कुछ असर हुआ है लेकिन मोदी सरकार लगातार इस पर काम कर रही है.

मुंबई: 2600 पेड़ काटने का काम शुरू, धारा 144 लागू, विरोध करने पर शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी हिरासत में

उन्होंने अपने पर्यावरण मंत्रालय के बारे में कहा कि पहले पर्यावरण विभाग से किसी एक परियोजना को पूरा करने में बहुत समय लगता था लेकिन अब ऐसी व्यवस्था की गई है कि कम से कम समय में सभी अनुमतियां मिल जाएं, लेकिन इसके लिए हमने कोई समझौता नहीं किया है, बल्कि नियमों को आसान कर दिया है.

जावड़ेकर ने कहा कि देश में छोटे बैंक का बड़े बैंक में विलय दोनों को काफी मजबूत करेगा और इससे बैंक द्वारा दिए जाने वाले कर्ज की निगरानी भी अच्छी तरह होगी. प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में सरकार हर स्तर पर कनेक्टिविटी को बेहतर कर रही है, शुक्रवार को लखनऊ से तेजस ट्रेन का संचालन हुआ है, यह एक बड़ी शुरुआत है.

(इनपुट-भाषा)