नई दिल्ली: दुनियाभर में फैली कोरोना महामारी के मद्देनजर कई कंपनियों द्वारा वैक्सीन बनाया जा रहा है. ऐसे में भारत में निर्मित कोविशील्ड और कोवैक्सीन को मंजूरी न देने वाले यूरोपियन यूनियन के देशों पर भारत का दबाव काम कर गया है. नई जानकारी के मुताबिक यूरोपियन यूनियन के 7 देशों ने भारत में बनी कोविशील्ड वैक्सीन को मंजूरी दे दी है.Also Read - Coronavirus cases In India: 24 घंटे में 30,256 लोग हुए संक्रमित, 295 लोगों की हुई मौत

बता दें कि अब कोविशील्ड वैक्सीन से टीकाकरण करा चुके लोग भी इन सात देशों में यात्रा कर सकते हैं. बता दें कि इससे पहले ईयू ने यूरोप में कोविशील्ड लगवा चुके लोगों की एंट्री को ग्रीन पास नहीं दिया था जिसके बाद भारत सरकार ने ईयू के देशों को स्पष्ट कर दिया कि जबतक ईयू के देश भारत में निर्मित कोवैक्सीन और कोविशील्ड के सर्टिफिकेट को स्वीकार नहीं करेंगे, तब तक भारत भी ईयू के डिजिटल कोविड टीकाकरण सर्टिफिकेट को स्वीकार नहीं करेगा Also Read - COVID-19 Update: कोरोना के 30,773 नए केस आज आए, केरल के 19,325 मामले शामिल, एक्‍ट‍िव मरीजों की संख्‍या घटी

इसी कड़ी में जर्मनी, स्विट्जरलैंड, स्लोवेनिया, ग्रीस, आइसलैंड, आयरलैंड, ऑस्ट्रिया और स्पेन ने कोविशील्ड और कैवैक्सीन के सर्टिफिकेट को मंजूर दे दी है. यानी अब लोग इन सात देशों में यात्रा कर सकते हैं. बता दें कि कोविशील्ड को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका ने तैयार किया है. इसका उत्पादन पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट में किया जा रहा है. Also Read - Rajasthan: पिता ने 4 बेटियों को पहले जहर खिलाया, पानी के टैंक में डुबोकर मारा, फिर सुसाइड की कोशिश की