नई दिल्ली /यमुनानगर: यमुना का जल स्तर खतरे के निशान को पार कर गया है. शनिवार शाम पांच बजे यह 205.20 मीटर तक पहुंच गया. इस स्थिति के मद्देनजर अधिकारी अब निचले इलाकों से लोगों को निकालकर सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने के काम में जुट गए हैं. इस बीच, हरियाणा के यमुनानगर जिले में भी हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है. अधिकारियों ने बताया कि हथिनीकुंड बैराज पर यमुना नदी का जल स्तर 90,000 क्यूसेक के खतरे के निशान को पार कर गया और शाम पांच बजे तक 5,03,935 क्यूसेक पानी छोड़ा गया. लगातार हो रही बारिश के कारण नदी का जल स्तर और बढ़ने की आशंका है. Also Read - No Parking No Car: दिल्ली मे कार लेने से पहले दिखाने होंगे पार्किंग के सबूत वरना नई कार के लिए करना पड़ेगा 15 साल का इंतजार

Also Read - School Reopening Latest Update: दिल्ली में 5 अक्टूबर तक नहीं खुलेंगे स्कूल, सरकार ने अपने जारी आदेश कही ये बात

महाराष्ट्र बस हादसा: अचानक वॉट्सऐप ग्रुप पर पसरा सन्नाटा, 3 घंटे बाद पता चला 33 दोस्त नहीं रहे Also Read - दिल्ली HC ने दिया आदेश-ऑनलाइन क्लासेज के लिए छात्रों को दें मोबाइल-लैपटॉप, इंटरनेट पैक

हालात का जायजा लेने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मुख्य सचिव अंशु प्रकाश सहित अपनी सरकार के आला अधिकारियों के साथ आपात बैठक की.केजरीवाल ने कहा कि सारे विभागों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, ‘हरियाणा ने पांच लाख क्यूसेक से ज्यादा पानी छोड़ा है. हालात पर चर्चा के लिए आपात बैठक बुलाई. यह पानी रविवार शाम तक दिल्ली पहुंचने की संभावना है. प्रशासन जहां से भी लोगों को निकालकर ले जा रहा है, वहां पर उनसे सहयोग करने को कहा जा रहा है. सारे विभाग हाई अलर्ट पर हैं. बाढ़ से जुड़ी किसी भी आपात स्थिति के लिए नियंत्रण कक्ष का नंबर 1077 है.’

बारिश से देश के 5 राज्यों में 537 मौतें हुईं, महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा लोगों की जानें गईं

एक बयान में कहा गया था कि दिल्ली के पुराना रेलवे पुल पर यमुना नदी का जल स्तर 28 जुलाई की सुबह सात बजे 204.92 मीटर तक पहुंच गया था, जो खतरे के निशान से ऊपर है. जल स्तर में और वृद्धि हो रही है. एक अधिकारी ने बताया कि यमुना नदी के खतरे के निशान को पार करने के बाद चेतावनी जारी की गयी थी. बयान के मुताबिक, ‘सभी कार्यपालक इंजीनियरों / क्षेत्र के अधिकारियों को पानी जारी करने, पुराने रेलवे पुल पर जलस्तर और केंद्रीय जल आयोग / एमईटी के परामर्श या पूर्वानुमान के बाबत नियंत्रण कक्ष से लगातार संपर्क में रहने और उचित उपाय करने का अनुरोध किया गया है ताकि बाढ़ जैसी स्थिति से बचा जा सके.

आफत की बारिश: उत्तर प्रदेश में अब तक 58 लोगों ने गंवाई जान, 53 घायल

इस बीच हरियाणा के यमुनानगर में यमुना नदी का जल स्तर पांच लाख क्यूसेक को पार करने के बाद जिला प्रशासन ने हाई अलर्ट जारी कर दिया है. हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में लगातार हो रही बारिश के कारण यमुना नदी के जल स्तर में इतनी बढ़ोतरी हुई है. बहरहाल, हालात को नियंत्रण में बताते हुए जिला प्रशासन ने कहा कि बाढ़ जैसे हालात से निपटने के लिए सारे जरूरी इंतजाम किए गए हैं. यमुनानगर के उपायुक्त गिरीश अरोड़ा ने बताया, ‘यमुना नदी का जलस्तर अभी 5.25 लाख क्यूसेक के निशान को छू चुका है और हम हालात पर लगातार नजर रख रहे हैं.’