High Security registration Plate: ऐसे वाहन जिनपर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर कोडेड स्टीकर नहीं लगे हैं, उनका 5500 रुपये तक का चालान किया जा रहा है. दिल्ली में अब तक लगभग 1000 लोगों का चालान किया जा चुका है. हालांकि चालान करने से अधिक दिल्ली सरकार लोगों को हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है. परिवहन विभाग ने इस विषय में कहा, ‘हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (High Security Number Plate) लगवाने के लिए दिल्ली में 658 केंद्र बनाए गए हैं. Also Read - Fuel Sticker और High Security Number Plate के लिए फिलहाल नहीं कटेगा चालान! जानिये क्या कहा दिल्ली HC ने...

इसके अलावा दिल्ली की 517 कॉलोनियों में भी हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगवाने की सुविधा उपलब्ध है. होम डिलीवरी के लिए इसकी वेबसाइट पर आवेदन किया जा सकता है. होम डिलीवरी में कार के लिए 250 रुपये व टू व्हीलर के लिए 125 रुपये अतिरक्त देने होंगे. मात्र बुकिंग की रसीद दिखाने पर भी आपका चालान नहीं किया जाएगा.’ Also Read - Color Coded Fuel Stickers and High Security Registration Plate: तुरंत बदलिए अपनी कार-बाइक का नंबर प्लेट वरना 10,000 जुर्माना भरने को रहिए तैयार

दिल्ली में फिलहाल नई नंबर प्लेट को लेकर बेहद कम चालान किए जा रहे हैं. इस पर भी अभी तक सिर्फ चार पहिया वाहनों के ही चालान काटे गए हैं. दिल्ली सरकार के परिवहन विभाग के मुताबिक वाहन चालक किसी भी डीलर के पास जाकर अथवा घर बैठे ही ऑनलाइन, हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट की बुकिंग करा सकते हैं. बुकिंग की पर्ची हासिल कर लेने के बाद वाहन चालकों के खिलाफ कोई कार्रवाई या चालान नहीं किया जाएगा. Also Read - दिल्ली में वाहनों पर हाई सिक्योरिटी वाले नंबर प्लेटों की ऑनलाइन बुकिंग शुरू, दिवाली तक 3000 का लक्ष्य

दिल्ली सरकार ने 1 नवंबर से हाई-सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट और कलर-कोडेड स्टिकर के लिए ऑनलाइन बुकिंग फिर से शुरू कर दी है. इसके के लिए राज्य सरकार द्वारा अधिकृत किसी भी वाहन डीलर से भी संपर्क किया जा सकता है. कार के लिए HSRP का शुल्क 600-1100 रुपये है. दोपहिया वाहनों के लिए 300-400 रुपये फीस है. वहीं रंगीन स्टीकर के लिए 100 रुपये का शुल्क लगाया गया है.

इस विषय पर दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत जनता की शिकायतों को दूर करने के लिए सभी हितधारकों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक कर चुके हैं. इस बैठक में परिवहन विभाग, राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ अन्य हितधारकों जैसे मूल उपकरण निर्माता (ओईएम), सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चर्स और उच्च सुरक्षा पंजीकरण प्लेट (एचएसआरपी) निमार्ताओं ने भी भाग लिया.

बैठक के दौरान परिवहन मंत्री ने वाहन मालिकों द्वारा अपने वाहन पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (एसएसआरपी) फिट करने के संबंध में आने वाली समस्याओं पर चर्चा की. उन्होंने वाहन निमार्ताओं की शिकायतों के समाधान के लिए ओईएम निमार्ताओं को एक सिस्टम बनाने का निर्देश दिया.

(इनपुट: IANS)