श्रीनगर: पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल ने रविवार को कहा कि वक्त आ गया है कि कश्मीर मसले को सुलझाया जाए क्योंकि ‘राजनीतिक समस्याओं के सैन्य समाधान से कुछ नहीं होगा बल्कि कब्रिस्तान बनेंगे.’ अपने सियासी सफर के लिए आम लोगों से चंदे की वसूली (क्राउडफंडिंग) का अभियान शुरू कर चुके फैसल 1994 में कुपवाड़ा कस्बे में 27 लोगों के मारे जाने और 38 अन्य लोगों के घायल होने की घटना पर टिप्पणी कर रहे थे.

पहले कश्मीरी IAS टॉपर शाह फैसल किसी पार्टी में नहीं होंगे शामिल, अकेले करेंगे राजनीति

फैसल ने एक ट्वीट में कहा, ‘राजनीतिक समस्याओं का समाधान सैन्य तरीके से करने के प्रयास में इधर भी कब्रिस्तान बनते हैं और उधर भी.’ उन्होंने कहा, ‘कुपवाड़ा में जनसंहार की 25वीं बरसी पर आज मैं कश्मीर के लोगों और उनकी कुर्बानी के प्रति एकजुटता व्यक्त करता हूं.’ फैसल ने कहा, ‘समाधान का समय आ गया है. जब कश्मीर का मुद्दा सुलझाया जाए. ये होना ही चाहिए.’

नेता की बजाय बेहतर IAS अधिकारी साबित होते शाह फैसल, गरीबों की उत्साह से की मदद: सत्यपाल मलिक

पूर्व आईएएस अधिकारी ने कहा कि नौ जनवरी को भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी के तौर पर अपना इस्तीफा दे दिया था. कश्मीर के हालात के साथ ही कई और अन्य मुद्दों को भी उन्होंने इस्तीफे की वजह बताया था.