नई दिल्ली: भारत व पाकिस्तान ने मंगलवार को परमाणु प्रतिष्ठानों की सूची का आदान-प्रदान किया. इस सूची का आदान-प्रदान 1988 में हस्ताक्षरित एक समझौते के आधार पर किया गया. विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘भारत और पाकिस्तान ने आज कूटनीतिक माध्यमों के जरिए एक साथ नई दिल्ली और इस्लामाबाद में परमाणु प्रतिष्ठानों व सुविधाओं की सूची का आदान-प्रदान किया. Also Read - क्या भाजपा में शामिल होने जा रहे हैं सौरव गांगुली? बंगाल चुनाव से पहले दादा ने खुद किया बड़ा खुलासा

Also Read - पाकिस्तान के तेज गेंदबाज शाहीन शाह अफरीदी से होगी शाहिद अफरीदी की बेटी की सगाई, परिवार ने की पुष्टि

मैंने जो किया वो सही या गलत, ये जनता तय करेगी, पढ़ें PM मोदी के इंटरव्यू की 25 बड़ी बातें Also Read - शर्मनाक हार के बाद बोले Joe Root, 'पहला मैच तो ठीक था, लेकिन बाकी में हम Team India की बराबरी नहीं कर पाए'

इस सूची का आदान-प्रदान भारत और पाकिस्तान के बीच परमाणु प्रतिष्ठानों के खिलाफ हमला रोकथाम समझौता के तहत किया गया है.’ बयान में कहा गया है, ‘इस समझौते पर 31 दिसंबर, 1988 को हस्ताक्षर किए गए और यह 27 जनवरी, 1991 को लागू हुआ.

इंटरव्यू: पीएम मोदी की पाक को लेकर दो टूक, कहा- ‘एक लड़ाई से पाकिस्तान सुधर जाएगा, ये सोचना बड़ी गलती होगी’

अन्य बातों के साथ इस समझौते के तहत हर साल की एक जनवरी को दोनों देश एक-दूसरे को परमाणु प्रतिष्ठानों व सुविधाओं के बारे में सूचित करते हैं.’ दोनों दक्षिण एशियाई परमाणु शक्तियों के बीच यह लगातार 28वां आदान-प्रदान है. इस तरह का पहला आदान-प्रदान एक जनवरी, 1952 को किया गया था.