नयी दिल्ली: भारतीय उद्योग जगत को उम्मीद है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की इस महीने के आखिर में होने वाली पहली भारत यात्रा के ठोस परिणाम होंगे. उद्योग जगत के मुताबिक इस दौरान दोनों देशों के बीच ‘छोटे स्तर’ पर एक व्यापार समझौता और अमेरिकी कंपनियों द्वारा बड़े स्तर पर निवेश प्रतिबद्धतायें किये जाने की संभावना है. एक उद्योग संगठन ने शनिवार को कहा कि दोनों देश कुछ खास मुद्दों के समाधान और द्विपक्षीय व्यापार को बढ़ावा देने के लिए एक व्यापार समझौते पर बातचीत कर रहे हैं. Also Read - Coronavirus से देश में अबतक 29 मौतें, कुल संक्रमितों की संख्‍या 1,071 हुई: Health Ministry

भारत इस्पात और एल्यूमीनियम के कुछ उत्पादों पर अमेरिका द्वारा लगाए गए भारी शुल्कों में छूट की मांग कर रहा है. इसके अलावा भारत ने वरीयता की सामान्यीकृत प्रणाली (जीएसपी) के तहत कुछ खास घरेलू उत्पादों पर निर्यात लाभ बहाल करने और कृषि, ऑटोमोबाइल, ऑटो और इंजीनियरिंग जैसे क्षेत्रों के उत्पादों को अधिक बाजार पहुंच देने की मांग भी की है. दूसरी ओर, अमेरिका अपने कृषि तथा विनिर्माण उत्पादों, डेयरी वस्तुओं और चिकित्सा उपकरणों, डेटा स्थानीयकरण क्षेत्र में अधिक बाजार पहुंच की मांग कर रहा है. उसने कुछ सूचना और संचार प्रौद्योगिकी उत्पादों (आईसीटी) पर आयात शुल्क में कटौती की मांग भी की है. इसके अलावा उसने भारत के साथ ऊंचे व्यापार घाटे पर भी चिंता जताई है. Also Read - अमेरिका की स्थिति भयावह, ट्रंप प्रशासन ने कहा- कोरोना से मौत का आंकड़ा एक लाख से कम रखना चुनौतीपूर्ण

द्विपक्षीय संबंधों को निर्णायक बढ़त देंगे दोनों देश
भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के महानिदेशक चंद्रजीत बनर्जी ने कहा कि भारतीय उद्योग ने अमेरिका में अपना निवेश और रोजगार सृजन बढ़ाया है, ऐसे में हमें अमेरिका में काम कर रही प्रमुख भारतीय कंपनियों के साथ राष्ट्रपति ट्रंप के संवाद की उम्मीद है. उन्होंने बताया कि ‘छोटे स्तर’ पर एक व्यापार समझौता होने की उम्मीद काफी अधिक है, जिससे अधिक व्यापक आर्थिक साझेदारी की आधारशिला तैयार होगी. एसोचैम के महासचिव दीपक सूद ने कहा कि भारत और अमेरिका के व्यापार वार्ताकार द्विपक्षीय आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस दौरान ट्रंप के स्वागत समारोह की मेजबानी करेंगे. ऐसे में दोनों देश द्विपक्षीय संबंधों को एक निर्णायक बढ़त देंगे. Also Read - कोरोनावायरस पर ट्रंप सरकार की चेतावनी, बढ़ सकता है मरने वालों का आंकड़ा, लॉकडाउन को लेकर किया बड़ा फैसला

24 और 25 फरवरी को भारत की यात्रा पर ट्रंप
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निमंत्रण पर ट्रंप 24 और 25 फरवरी को भारत की यात्रा पर आ रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक इस दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति 25 फरवरी को यहां देश के शीर्ष कारोबारियों से मिलेंगे. राष्ट्रीय राजधानी में ट्रंप के साथ सीईओ की एक बैठक आयोजित की जाएगी, जिसमें वरिष्ठ नौकरशाह के साथ ही शीर्ष अमेरिकी कार्यपालक भी शामिल हो सकते हैं. एक सूत्र ने बताया कि इस बैठक में उद्योगजगत की दिग्गज हस्तियां शामिल होंगी, जिनमें रिलायंस इंडस्ट्रीज के सीएमडी मुकेश अंबानी, भारती एयरटेल के अध्यक्ष सुनील भारती मित्तल, टाटा संस के अध्यक्ष एन चंद्रशेखरन, महिंद्रा समूह के अध्यक्ष आनंद महिंद्रा, लार्सन एंड टुब्रो के अध्यक्ष ए एम नाइक और बायोकॉन की सीएमडी किरन मजूमदार शॉ को नाम होने की उम्मीद है. उन्होंने बताया कि नई दि्लली में अमेरिकी दूतावास इस बैठक के लिए इंतजाम कर रहा है और आगंतुकों की सूची मंजूरी के लिए व्हाइट हाउस को भेजी गई है.