नई दिल्लीः उत्तराखंड में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के सीएम पद संभालने के एक साल के भीतर उनके दफ्तर में आने वाले अतिथियों के चाय-नाश्ते पर अभी तक 68 लाख रुपए खर्च हुए हैं. यह जानकारी सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत मांगी गई जानकारी में सामने आई है.Also Read - Uttarakhand Flood: भयंकर तबाही, अब तक 34 मौतें, मृतकों के परिवार को 4 लाख की मदद मिलेगी

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार नैनीताल में रहने वाले आरटीआई कार्यकर्ता हेमंत सिंह गौनियां ने सूचना के अधिकार के तहत उत्तराखंड के मुख्यमंत्री कार्यालय से यह जानकारी मांगी थी. उन्होंने पूछा था कि 18 मार्च 2017 को अपना पद संभालने के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आज तक चाय-पानी यानी चाय और नाश्ते पर कितना सरकारी धन खर्च किया गया है. इसके जवाब में लोक सूचना अधिकारी ने उन्हें सूचना उपलब्ध कराई है. Also Read - उत्तराखंड में भारी बारिश का Red Alert, गंगोत्री-यमुनोत्री नेशनल हाईवे पर भूस्खलन; बर्फबारी से बढ़ी ठिठुरन

Also Read - Uttarakhand Rain Alert: उत्तराखंड में भारी बारिश की चेतावनी, रेड अलर्ट जारी; इन जिलों में सभी स्कूल बंद करने के आदेश

इसमें कहा गया है कि 18 मार्च 2017 के बाद से ‘मुख्‍यमंत्री द्वारा 18 मार्च 2017 को सीएम पद की शपथ ग्रहण की गई थी. इस तारीख के बाद से अति‍थियों के चाय-पानी में कुल 68,59,865 रुपये का सरकारी धन खर्च हुआ है.’

खर्च कम करने का हो रहा है प्रयास
स्थानीय मीडिया में मुख्यमंत्री दफ्तर में सिर्फ चाय-नाश्ते पर किए गए खर्च को लेकर कई तरह के सवाल उठाए जा रहे हैं. कहा जा रहा है कि मितव्ययता की बात करने वाली उत्तराखंड सरकार इतनी फिजूलखर्ची कैसे कर सकती है. इस बारे में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के मीडिया को-ऑर्डिनेटर डीएस रावत ने कहा कि आरटीआई की जानकारी सही है. सीएम के निर्देशानुसार इस खर्च को कम करने का प्रयास किया जा रहा है.