वाशिंगटन. एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सोशल मीडिया वेबसाइट फेसबुक ने कुछ कंपनियों के साथ कतिपय गोपनीय समझौते किए जिससे उन्हें उसके उपयोक्ताओं से जुड़े रिकार्ड तक विशेष पहुंच मिली. वाल स्ट्रीट जर्नल की एक रिपोर्ट के अनुसार, कुछ समझौतों से कुछ कंपनियों को किसी फेसबुक उपयोक्ता के दोस्तों के बारे में अतिरिक्त जानकारी हासिल करने की अनुमति मिली. अखबार ने जानकार सूत्रों के हवाले से कहा हैॉ, ‘इस सूचना में फोन नंबर तथा ‘फ्रेंड लिंक’ जैसा एक मानक शामिल है. इससे किसी उपयोक्ता और उसके नेटवर्क के अन्य लोगों के बीच निकटता को ‘आंका’ जाता है. Also Read - वकील दीपिका राजावत ने नवरात्र के अवसर पर की विवादित टिप्पणी, घर के बाहर इक्ट्ठा हुए लोग

पहचान उजागर नहीं
इस खबर में किसी सूत्र की पहचान उजागर नहीं की गई है. इसमें कहा गया है कि रायल बैंक आफ कनाडा और निसान मोटर कंपनी जैसी कंपनियों के साथ इस तरह के सौदे किए गए. ये कंपनियां या तो फेसबुक पर विज्ञापन देती हैं या अन्य कारणों से ‘मूल्यवान’ हैं. यह रिपोर्ट ऐसे समय में आई जबकि फेसबुक कम से कम 60 मोबाइल और अन्य उपकरण विनिर्माताओं के साथ डेटा शेयर भागीदारी को लेकर पहले ही विवाद में है. Also Read - पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार का फेसबुक पेज ब्लॉक होने पर मचा तहलका, भारी घमासान के बाद हुआ अनब्लॉक

कंपनी ने स्वीकारा
कंपनी का कहना है कि उसने ‘थोड़े’ से भागीदारों को ही उपयोक्ता के दोस्तों की जानकारी पाने की अनुमति दी. डेटा 2015 में डेवल्परों के लिए बंद कर दिया गया. इसके अनेक विस्तार हफ्तों व महीनों तक चलते रहे. कंपनी के उपाध्यक्ष (उत्पाद भागीदारी) इमे आर्चिबोंग ने अखबार के साथ बातचीत में स्वीकार किया कि कुछ कंपनियों को इस बारे में मई 2015 के बाद भी ‘पहुंच की अनुमति’ दी गई. Also Read - बाइडन की आलोचना वाले लेख को ट्विटर, फेसबुक ने किया बैन, डोनाल्ड ट्रंप को आया गुस्सा