न्यूयॉर्क. फेसबुक यूजर्स को सोमवार से उनके डाटा लीक होने के संबंधी जानकारी मुहैया कराई जाएगी. कैम्ब्रिज एनालिटिका स्कैंडल के बाद कंपनी ने यह कदम उठाया है. आज से करीब 8.7 करोड़ यूजर्स जिनका डाटा संभवत : ‘ कैम्ब्रिज एनालिटिका ’ के साथ साझा किया गया होगा उन्हें एक विस्तृत संदेश और न्यूज फीड मुहैया कराई जाएगी. Also Read - LinkedIn Data Leak: फेसबुक के बाद, लिंक्डइन से लीक हुआ 50 करोड़ यूजर्स का डेटा, 61 लाख भारतीय हैं शामिल

फेसबुक का कहना है कि डेटा लीक मामले के उसके अधिकतर यूजर्स (सात करोड़) अमेरिका में हैं. हालांकि फिलीपीन , इंडोनेशिया और ब्रिटेन में भी दस-दस लाख से अधिक यूजर्स हैं. इसके साथ ही सभी 2.2 अरब फेसबुक यूजर्स को ‘ प्रोटेक्टिंग योर इनफोर्मेशन ’ नामक एक नोटिस एक लिंक के साथ मिलेगा. इससे वे कौन सी एप का इस्तेमाल करते हैं और उन एप पर उन्होंने क्या जानकारी साझा की है उसकी जानकारी मिलेगी. Also Read - Facebook technical glitch: माह भर में दूसरी बार फेसबुक, इंस्टाग्राम की सेवाएं फिर से हुईं बाधित

अगर वे चाहें तो अलग – अलग एप को बंद कर सकते हैं या तीसरे पक्ष के दखल को पूरी तरह रोकने के लिए पूरी तरह उसे बंद कर सकते हैं. इनसे जुड़ी किसी जानकारी पर किसी और की पहुंच संभव न हो पाए. Also Read - World’s Richest List 2021: लगातार चौथी बार जेफ बेजोस दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति बने, मुकेश अंबानी भी लिस्ट में

ये है मामला

बता दें कि ब्रिटेन की गूगल डाटा एनालेटिक्स कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका पर सोशल मीडिया से लोगों की निजी जानकारी चुराने का आरोप है. आरोप है कि कैंब्रिज एनालिटिका ने फेसबुक के 5 करोड़ खातों से डाटा चुराकर उसका इस्तेमाल अमेरिकी चुनावों में डोनाल्ड ट्रंप के पक्ष में किया था. आरोप है कि डाटा मैन्यूपुलेशन ट्रिक्स की मदद से कंपनी ने लोगों का डाटा चुराकर की देशों के चुनावों में इस्तेमाल किया था. इन देशों में भारत का नाम भी शामिल है.