नई दिल्लीः राजधानी दिल्ली में लगातार बढ़ रहे कोरोनावायरस के मामलों को देखते हुए मंगलवार को दिल्ली फरीदाबाद बॉर्डर पूरी तरह से सील कर दिया गया. प्रशासन ने इसकी सूचना लोगों क दिन पहले ही दे दी थी ताकि लोग अपने घरों में पहुंच सकें. अब आवश्यक कामकाज से आने जाने वालों को थोड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा. Also Read - 5,000 के पार पहुंची कोविड-19 से मरने वालों की संख्या, कल से शुरू होगा लॉकडाउन से निकलने का पहला चरण; 13 बड़ी बातें

सरकार ने कहा कि अब और सख्ती से लॉकडाउन का पालन किया जाएगा. अब बॉर्डर सील होने के बाद दिल्ली या हरियाणा आने जाने वाले डॉक्टर्स और पुलिस की एंट्री पर रोक लगा दी गई है. बैंक कर्मी भी एक राज्य से दूसरे राज्य में नहीं जा सकेंगे. Also Read - दिल्ली में कोरोना का नया रिकॉर्ड, 1 दिन में 1163 नए मामले सामने आए

बता दें कि राजधानी दिल्ली में लॉकडाउन के बावजूद कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं ऐसे में ऐहतियात के तौर पर सरकार की तरफ से यह कदम उठाया गया है. एक दिन पहले ही हरियाणा के गृह मंत्रीअनिल विज ने आरोप लगाया था कि दिल्ली की वजह से ही हरियाणा बॉर्डर पर कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे हैं. उन्होंने संकेत दिया था कि अगर जरूरत पड़ी तो सरकार दिल्ली-हरियाणा के बार्डर को सील करेगी.

बॉर्डर सील होने के बाद उन्ही लोगों को आने जाने अनुमति होगी जिनके पास विशेष पास होगा. यह पास केंद्र सरकार की तरफ से जारी किया जाएगा. राज्य सरकार के फैसले के बाद बॉर्डर पर चौकसी बढ़ा दी गई है. आने जाने वाले हर किसी से गहन पूछताछ की जा रही है.