Kisan Andolan Updates: दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों के नेताओं ने देश की राजधानी में प्रवेश के सभी नाकों को को बंद करने की चेतावनी दी है. नए कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे, किसान संगठनों ने दिल्ली के बुराड़ी ग्राउंड में आने पर बातचीत करने की सरकार की अपील को ठुकराते हुए रविवार को कहा कि वे राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर भी डटे रहेंगे. किसान केंद्र सरकार द्वारा लागू नये कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. किसान नेताओं ने कहा कि सरकार जब तक उनकी मांग नहीं मानेगी, तब तक उनका प्रदर्शन जारी रहेगा और आगे वे दिल्ली में प्रवेश करने वाले सभी सड़कों को जाम करेंगे. Also Read - Kisan Andolan: कृषि कानूनों पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित समिति की पहली बैठक कल

इस बीच, दिल्ली सीमा पर चल रहे किसानों के आंदोलन को सुलझाने के लिए भाजपा संगठन और सरकार की ओर से कोशिशें तेज हो गई हैं. भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के आवास पर बेहद अहम बैठक शुरू हुई है. हैदराबाद से नई दिल्ली पहुंचते ही गृहमंत्री अमित शाह इस बैठक में शामिल हुए. कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी बैठक में मौजूद हैं. गृहमंत्री अमित शाह ने किसानों से बुराड़ी के निरंकारी मैदान में शिफ्ट होने की अपील की थी. उन्होंने कहा था कि बुराड़ी में निर्धारित मैदान में शिफ्ट होने के अगले ही दिन सरकार बातचीत करेगी. गृह सचिव ने किसान नेताओं को पत्र भी भेजकर यह ऑफर दिया था, लेकिन किसान संगठनों ने रविवार को बुराड़ी ग्राउंड में एकत्र होने की सरकार की अपील ठुकरा दी थी. Also Read - ट्रैक्टर रैली को लेकर बहस पर किसानों ने कहा- रैली निकालना हमारा अधिकार, हज़ारों लोग इसमें शामिल होंगे

वहीं, भारतीय किसान यूनियन (लाखोवाल) के जनरल सेक्रेटरी हरेंद्र सिंह लाखोवाल ने कहा कि सभी किसान संगठनों ने फैसला लिया है कि वे यहीं (सिंघू बोर्डर) बैठे रहेंगे और आने वाले दिनों में दिल्ली की ओर जाने वाली अन्य सड़कों को भी जाम करेंगे. उन्होंने कहा कि यह पंजाब के 30 किसान संगठनों का फैसला है. भाकियू नेता हरेंद्र सिंह ने गृहमंत्री की तरफ से किसान नेताओं को चिट्ठी मिली है, जिसमें बुराड़ी ग्राउंड आने पर बातचीत करने की शर्त रखी गई है, लेकिन यह शर्त उन्हें मंजूर नहीं है, इसलिए किसान नेताओं ने दिल्ली की सीमाओं पर ही डटे रहने का फैसला लिया है. Also Read - किसानों की ट्रैक्टर रैली पर सुनवाई, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सरकार के पास इसे निपटाने के सभी अधिकार, पुलिस को जो करना है करे

किसान संगठनों की कोर कमेटी की बैठक के बाद पंजाब में भारतीय किसान यूनियन (क्रांतिकारी) के पंजाब के अध्यक्ष सुरजीत सिंह फूल ने दिल्ली के पांच प्रवेशद्वारों को जाम करने की चेतावनी दी. उन्होंने कहा, “हम बुराड़ी नहीं जाएंगे और आगे दिल्ली की तरफ आने वाली पांच सड़कों को जाम करेंगे.” दिल्ली में प्रवेश करने वाली सड़कों को जाम करके किसान नेता केंद्र सरकार पर दबाव बनाने की कोशिश में जुटे हैं. शायद यही वजह है कि इन्होंने बुराड़ी ग्राउंड आने की गृहमंत्री की अपील ठुकरा दी है. नए कृषि कानूनों को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शन की अगुवाई हालांकि पंजाब के किसान संगठन कर रहे हैं, लेकिन इसमें पंजाब और हरियाणा के अलावा अन्य राज्यों के किसान भी शामिल हैं.

हरियाणा में भाकियू के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कहा कि यह आंदोलन अब सिर्फ पंजाब और के किसानों तक सीमित नहीं है, बल्कि यह देशभर के किसानों का सवाल है और आंदोलन में देशभर के किसान शामिल हैं. उन्होंने कहा, “हमारा यह अनिश्चितकालीन धरना है और हम यहीं जमे रहेंगे.” बुराड़ी ग्राउंड जाने के सवाल पर उन्होंने कहा, अब वहां जाने का इरादा नहीं है. किसानों के इस आंदोलन में राजनीतिक दलों की भागीदारी के मसले पर सुरजीत सिंह फूल ने कहा कि यह किसानों का प्रदर्शन है और किसान इसमें राजनीतिक दलों को मंच पर बोलने की इजाजत नहीं देंगे.

हालांकि हरेंद्र सिंह से आईएएनएस ने जब पूछा कि किसानों के इस प्रदर्शन को किन-किन राजनीतिक दलों का समर्थन मिल रहा है तो उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी और उनके सहयोगी दलों को छोड़कर बाकी तकरीबन सभी राजनीतिक दलों का उन्हें समर्थन प्राप्त है. हरियाणा की तरफ से दिल्ली में प्रवेश करने वाली मुख्य सड़कों पर स्थित सिंघू व टिकरी बॉर्डर पर हजारों की तादाद में किसान 26 नवंबर से प्रदर्शन कर रहे हैं. उधर, उत्तर प्रदेश से दिल्ली में प्रवेश करने वाली मुख्य सड़क स्थित गाजीपुर बॉर्डर पर भी रविवार को किसान प्रदर्शन कर रहे थे.