हैदराबाद: तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के कार्यकारी अध्यक्ष और कैबिनेट मंत्री केटी रामा राव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस बयान पर पलटवार किया है, जिसमें प्रधानमंत्री ने संसद में कृषि विधेयकों के पारित होने को कृषि क्षेत्र के लिए एक ‘ऐतिहासिक क्षण’ करार दिया था. रामा राव ने मोदी की टिप्पणी का स्पष्ट उल्लेख करते हुए इस संदर्भ में कहा, “अगर कृषि विधेयक सही मायने में एक ऐतिहासिक क्षण हैं, तो कोई किसान जश्न क्यों नहीं मना रहा है और एनडीए के सहयोगी क्यों इस्तीफा दे रहे हैं?”Also Read - Punjab Opinion Poll 2022 , Janta ka Mood: जानें पंजाब में किस पार्टी को फायदा, कौन सत्ता के कितने करीब

रविवार को राज्यसभा द्वारा दो कृषि विधेयकों के पारित होने के बाद, प्रधानमंत्री ने इसे एक ऐतिहासिक क्षण बताया था. मोदी ने ट्वीट किया था, “भारत के कृषि इतिहास में आज एक बड़ा दिन है. संसद में अहम विधेयकों के पारित होने पर मैं अपने परिश्रमी अन्नदाताओं को बधाई देता हूं. यह न केवल कृषि क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन लाएगा, बल्कि इससे करोड़ों किसान सशक्त होंगे.” Also Read - जानिए क्या है Teleprompter और कैसे करता है काम? जिसे लेकर राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कसा तंज

रामा राव ने सोमवार को ट्वीट कर मोदी के दावे को खारिज कर दिया. उन्होंने बताया कि जब पिछले हफ्ते तेलंगाना विधानमंडल ने किसानों के हित वाला राजस्व विधेयक पारित किया था, तो राज्यभर में कृषक समुदाय के बीच व्यापक रूप से उत्साह और हर्ष था. Also Read - Azadi Ka Amrit Mahotsav: ‘आजादी के अमृत महोत्सव से स्वर्णिम भारत की ओर’ कार्यक्रम की हुई शुरुआत, पीएम मोदी ने किया संबोधित

टीआरएस ने संसद में कृषि विधेयकों का विरोध करते हुए कहा था कि ये देश में कृषि क्षेत्र के साथ बहुत अन्याय करेंगे. तेलंगाना के मुख्यमंत्री और टीआरएस अध्यक्ष के.चंद्रशेखर राव ने कहा था कि विधेयकों से कॉर्पोरेट को लाभ होगा और किसानों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा.