Farmers Protest: कृषि बिल को रद करने की जिद पर अड़े किसानों के आंदोलन का आज 16वां दिन है.  किसान नेताओं ने अपना आंदोलन तेज करते हुए 12 दिसंबर को देशभर में सड़कों पर लग रहे टोल को फ्री करवाने के अलावा 14 दिसंबर को देशभर में प्रदर्शन करने का ऐलान किया है. इसके साथ ही किसानों ने देशभर में ट्रेनें रोकने की भी बात कही है. इससे पहले केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और रेलमंत्री पीयूष गोयल ने किसान नेताओं से आंदोलन का रास्ता छोड़ सरकार से बातचीत जारी रखने की अपील की है. Also Read - Delhi NCR Traffic Alert: गणतंत्र दिवस परेड के पूर्वाभ्यास से पहले दिल्ली यातायात पुलिस ने जारी किया अलर्ट, इन रास्तों में जानें से बचें

किसानों के आंदोलन के बीच पीएम मोदी की अपील, बोले- किसान कानून पर मेरे दो सहयोगियों की बात जरूर सुनें. Also Read - Farmers Protest: किसानों और सरकार के बीच नौवें दौर की वार्ता भी रही बेनतीजा, अगली मीटिंग 19 जनवरी को

किसान नेताओं ने कही ये बात….

दिल्ली बॉर्डर पर पिछेल 15 दिनों से डटे किसान और सरकार के बीच वार्ता के बावजूद कोई हल नहीं निकल सका है. भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा है कि सरकार और किसान दोनों को पीछे हटना होगा, सरकार कानून वापस ले और किसान अपने घर चला जाएगा.

वहीं, भारतीय किसान यूनियन के नेता ऋषि पाल सिंह ने कहा है कि आज तक PM की मन की बात पूरी जनता ने सुनी, लेकिन आज जब जन का नंबर आया तो वो हमारी बात सुनने को तैयार नहीं हैं. किसान MSP में लिखित कानून की गारंटी की ही मांग कर रहा है लेकिन सरकार इस पर पता नहीं क्यों गुमराह करने में लगी हुई है.

पंजाब से किसान मज़दूर संघर्ष कमेटी का दूसरा जत्था अमृतसर से कुंडली बॉर्डर के लिए रवाना हुआ है. किसान मज़दूर संघर्ष कमेटी के महासचिव ने बताया, “करीब 50,000 किसान-मज़दूर कुंडली बॉर्डर की ओर जाएंगे.” किसानों की इस तैयारी के बाद सिंघु बॉर्डर पर लगातार चल रहे किसानों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए बॉर्डर पर बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं.