Farmers Protest: गणतंत्र दिवस की घटना के बाद अब दिल्ली पुलिस किसानों पर भरोसा नहीं करना चाहती. किसान अब एक फरवरी को संसद का घेराव करने वाले हैं तो ऐसे में पुलिस पहले से अलर्ट मोड में आ गई है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का कहना है कि एक फरवरी को दोबारा से राजधानी में कोई उपद्रव न कर पाए, इसके लिए सभी थाना पुलिस को मजबूत बैरिकेडिंग की व्यवस्था करने को कहा गया है.Also Read - दिल्लीवालों के लिए FIR करना हुआ आसान, अब घर बैठे कर सकते हैं चोरी और सेंधमारी की शिकायत, जानें कैसे?

पुलिस अधिकारी का कहना है कि दिल्ली में अब भविष्य में कभी पुलिस टैक्टर रैली की इजाजत नहीं देगी. एक भी ट्रैक्टर को दिल्ली में घुसने नहीं दिया जाएगा.पिछली घटना से सबक लेते हुए इसके लिए एडवाइजरी जारी कर दी गई है. Also Read - Republic Day Parade 2022: High Tech सुरक्षा के घेरे में दिल्ली | ज़मीन से आसमान तक रखी जा रही नजर

26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड निकालने की आड़ में राजधानी में हिसा व अराजकता फैलाने में शामिल 70 ट्रैक्टर मालिकों को क्राइम ब्रांच की एसआइटी (विशेष जांच टीम) ने पूछताछ में शामिल होने के लिए शनिवार को नोटिस भेजा है. उपद्रव में शामिल सभी वाहन केस प्रापर्टी के तौर पर जब्त किए जाएंगे. केस की सुनवाई होने तक उक्त वाहन पुलिस के कब्जे में रहेंगे. Also Read - Republic Day parade में शामिल होने वालों के लिए दिल्ली पुलिस ने जारी की गाइडलाइंस, इन नियमों का करना होगा पालन

दर्ज हो चुके हैं 38 केस, 84 उपद्रवी पुलिस की गिरफ्त में

उधर, उपद्रव के मामले में अब तक दिल्ली पुलिस 38 केस दर्ज कर चुकी है, 84 उपद्रवियों को भी गिरफ्तार किया जा चुका है. पुलिस सूत्रों के मुताबिक उत्तर प्रदेश, हरियाणा व पंजाब के रहने वाले इन ट्रैक्टरों के मालिकों को नोटिस भेजा गया है. उन्हें सुविधा के अनुसार क्राइम ब्रांच के अलग-अलग कार्यालयों में जल्द पूछताछ के लिए हाजिर होने को कहा गया है.

किसान नेताओं को फिर भेजा नोटिस

गुरुवार को क्राइम ब्रांच की एसआइटी ने भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत समेत नौ किसान नेताओं को नोटिस भेजकर शनिवार को पूछताछ के लिए क्राइम ब्रांच के कार्यालयों में हाजिर होने को कहा था, लेकिन कोई भी नेता हाजिर नहीं हुआ. एसआइटी ने शनिवार को इन्हें दोबारा नोटिस भेजकर सोमवार को पूछताछ में शामिल होने को कहा है.