नई दिल्ली: दिल्ली की सीमा पर कृषि कानूनों के खिलाफ किए जा रहे किसान आंदोलन का आज 19वां दिन है. कोरोना महामारी और दिल्ली में बढ़ रही सर्दी के बीच किसान अब भी दिल्ली सीमा पर टिके हुए हैं. इस बीच कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के समर्थन के लिए जामिया मिलिया विश्वविद्यालय के छात्र पहुंचे थे. यूपी गेट पर (गाजियाबाद-गाजीपुर बॉर्डर) प्रदर्शन कर रहे किसानों ने जामिया के छात्रों का समर्थन लेने से मना कर दिया. Also Read - Farmers Protest: किसानों और सरकार के बीच नौवें दौर की वार्ता भी रही बेनतीजा, अगली मीटिंग 19 जनवरी को

इस बाबत डीएसपी अंशु जैन ने बताया कि किसानों द्वारा इन छात्रों के समर्थन में शामिल होने को लेकर आपत्ति दर्ज कराई गई, जिसके बाद इन्हें पुलिस ने वापस भेज दिया. भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार किसानों की एकता को तोड़ना चाहती है. Also Read - Kisan Andolan: किसानों और सरकार के बीच वार्ता जारी, कृषि मंत्री ने अन्नदाताओं से की अपने रुख को नरम करने की अपील

टिकैत ने कहा कि किसान अब कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनस्थल पर पहुंच रहे हैं. ऐसे में यह एक एतिहासिक अनशन होने वाला है और सुबह के 8 बजे से शाम के 5 बजे तक एकदिवसीय भूख हड़ताल किया जाएगा. जिसमें सभी जिलों के मुख्यालयों का घेराव प्रदर्शन और अनशन किया जाएगा. Also Read - Farmers Protest: बैठक में बोले केंद्रीय मंत्री- हमने मानी किसानों की बात, लेकिन किसान नहीं...