farmers Protest: किसान संगठनों द्वारा विरोध मार्च के मद्देनजर हरियाणा पुलिस ने लोगों से अपील की है कि वे राष्ट्रीय राजमार्ग 10 यानी NH10 (हिसार-रोहतक-दिल्ली) और राष्ट्रीय राजमार्ग 44 (अंबाला-पानीपत-दिल्ली) पर यात्रा करने से बचें. हरियाणा के मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा, “हरियाणा पुलिस ने नागरिकों से अपील की है कि किसान संगठनों द्वारा विरोध मार्च के मद्देनजर राष्ट्रीय राजमार्ग 10 (हिसार-रोहतक-दिल्ली) और राष्ट्रीय राजमार्ग 44 (अंबाला-पानीपत-दिल्ली) पर यात्रा से बचें.”Also Read - एक्सीडेंटल गाड़ियों के नंबर को चोरी की कार पर लगाकर बेचते थे, पुलिस ने पकड़ा जब गिरोह तो हुए चौंकाने वाले और भी खुलासे

बता दें कि किसान पानीपत टोल प्लाजा पर हैं और वे ‘दिल्ली चलो’ विरोध मार्च के तहत दिल्ली की ओर बढ़ रहे हैं. इस दौरान एक प्रदर्शनकारी ने कहा, “क्या हम आतंकवादी हैं कि हमें राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जा रही है. यह लोकतंत्र की मृत्यु है.” Also Read - इस वीकएंड घूमिये दिल्ली की ये मार्केट और करिये जमकर शॉपिंग, यहां सस्ते मिलते हैं कपड़े

गौरतलब है कि केंद्र सरकार के कृषि से जुड़े कानूनों के खिलाफ पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसान दिल्ली चलो का नारा बुलंद करके सड़कों पर उतर आए हैं. पुलिस और सुरक्षाबलों के साथ हरियाणा बॉर्डर पर उनकी झड़पें भी हुई हैं. एक तरफ किसान और पुलिस आमने सामने हैं तो दूसरी ओर पंजाब और हरियाणा के मुख्यमंत्री ट्विटर पर टकरा रहे हैं. Also Read - देशद्रोह का मामलाः शरजील इमाम ने हाई कोर्ट से वापस ली जमानत अर्जी, ये है बड़ी वजह

इससे पहले दिन में किसानों के कई संगठनों की ओर से गुरुवार को कृषि कानूनों के विरोध में किए गए प्रदर्शन के बीच, दिल्ली-गुरुग्राम एक्सप्रेस-वे पर यात्रियों को पूरे दिन भारी ट्रैफिक जाम का सामना करना पड़ा. राष्ट्रीय राजमार्ग-48 पर आने वाले लोग एक्सप्रेसवे पर दिल्ली-गुरुग्राम सीमा के पास फंस गए, क्योंकि दिल्ली पुलिस ने राष्ट्रीय राजधानी की ओर बढ़ रहे किसानों को रोकने के लिए बैरिकेड्स लगा रखे थे.

किसान संसद में सितंबर में पारित किए गए केंद्रीय कानूनों का विरोध करते हुए ‘दिल्ली चलो’ आान के मद्देनजर दिल्ली पहुंचने की कोशिश कर रहे थे. सुरक्षा व्यवस्था के चलते एहतियात के तौर पर और कोविड-19 संक्रमण पर रोक लगाने के प्रयासों के साथ ही किसानों को दिल्ली में घुसने से रोकने के लिए हर वाहन की जांच की जा रही है.

(इनपुट एजेंसी)