नई दिल्ली: दिल्ली में गणतंत्र दिवस जैसे मौके पर मंगलवार को किसानों के हिंसक प्रदर्शन और लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराए जाने की घटना को गृह मंत्रालय ने बेहद गंभीरता से लिया है. गृहमंत्री अमित शाह ने अपने आवास पर आपात बैठक बुलाकर राजधानी में अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती के निर्देश दिए हैं.Also Read - Weather In Delhi NCR: पहाड़ों में बर्फबारी से दिल्ली-एनसीआर में बढ़ी ठिठुरन, अलाव तापते दिखे लोग- देखें Photos

सभी धरोहरों और संवेदनशील स्थानों पर अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती होगी. राजधानी में हिंसा के जिम्मेदार लोगों की पहचान कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई के भी निर्देश दिल्ली पुलिस को जारी हुए हैं. राजधानी में मंगलवार को किसानों के ट्रैक्टर परेड के हिंसक रूप अख्तियार कर लेने और कई जगहों पर पुलिस से झड़प की घटना को गंभीरता से लेते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने मंत्रालय व दिल्ली पुलिस के आला अफसरों से बैठककर राजधानी में सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की. खुफिया एजेंसियों के अधिकारियों ने उन्हें सूचनाएं दीं. Also Read - वायु प्रदूषण पर सख्ती: डीजल जनरेटर वाले दिल्ली के 40 मॉल किए जाएंगे बंद

सूत्रों के मुताबिक किसान आंदोलन की आड़ में प्रतिबंधित संगठनों की ओर से हिंसा को बढ़ावा दिए जाने के इनपुट खुफिया एजेंसियों को मिले हैं. खुफिया एजेंसियों ने आगे भी हिंसा की आशंका से इनकार नहीं किया. इस बैठक में गृह सचिव और आईबी के डायरेक्टर भी मौजूद रहे. Also Read - पंजाब के किसान नेताओं ने MSP पर 30 नवंबर तक जवाब मांगा, एक दिसंबर को SKM की आपात बैठक

सूत्रों के मुताबिक बैठक में राजधानी के सभी संवेदनशील स्थानों पर अतिरिक्त पैरामिल्रिटी फोर्सेज की तैनाती का निर्णय हुआ. ताकि आगे किसी तरह की हिंसक घटना न हो सके. हिंसक प्रदर्शन में शामिल लोगों को चिन्हित कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई का भी निर्देश जारी हुआ है. गृहमंत्रालय की इस बड़ी बैठक के बाद दिल्ली पुलिस भी राजधानी में हिंसक प्रदर्शन के पीछे के साजिशकर्ताओं की पहचान करने में जुटी है. इसके लिए उन सभी स्थानों के सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं, जहां किसानों ने हिंसक प्रदर्शन किए.

बता दें कि गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में किसानों के हिंसक प्रदर्शनों के मद्देनजर एहतियातन गृहमंत्रालय ने कई हिस्सों में इंटरनेट सेवाओं को बंद करने के आदेश दिए हैं. किसानों के प्रदर्शन वाले स्थानों पर आज रात 12 बजे तक इंटरनेट सेवाएं बंद रहेंगीं. सिंघु, टीकरी, गाजीपुर बॉर्डर, नांगलोई आदि क्षेत्रों में इंटरनेट सेवाओं को एहतियातन ठप करने के आदेश जारी हुए हैं.

राष्ट्रीय राजधानी में किसान ट्रैक्टर मार्च के दौरान हिंसा की स्थिति उत्पन्न हो गई, जिसके बाद स्थिति को संभालने को लेकर सरकार के निर्देश के बाद मंगलवार को शहर के कुछ स्थानों में इंटरनेट सेवाएं रोक दी गईं हैं. शहर की लगभग सभी टेलीकॉम फर्मों को निर्देश दिया गया है कि जब तक स्थिति नियंत्रण में नहीं आ जाती है या आगे के निर्देश नहीं दिए जाते, तब तक सेवा को रोक दिया जाए.

दिल्ली पुलिस के अनुरोध पर सरकार ने यह निर्देश दिया, जो आक्रामक किसानों को नियंत्रित करने में असहाय दिखे. किसानों ने अप्रत्याशित रूप से पुलिस बैरिकेड्स को तोड़ दिया और गणतंत्र दिवस परेड के समापन के तुरंत बाद लाल किले की ओर बढ़ गए.

जियो, एयरटेल, आइडिया जैसे टेलीकॉम ऑपरेटर्स ने बाधित इंटरनेट सेवाओं के बारे में संदेशों के माध्यम से अपने ग्राहकों को सूचित किया. गृह मंत्रालय ने एक आदेश में सिंघू, गाजीपुर, टिकरी, मुकरबा चौक और नांगलोई के साथ-साथ आस-पास के क्षेत्रों में 11.59 बजे तक इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दीं हैं. ऐसा ‘सार्वजनिक सुरक्षा’ बनाए रखने के लिए किया गया है.