Farmers tractor rally: केन्द्र के नए कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का आंदोलन जारी है और किसानों की बृहस्पतिवार यानी आज ट्रैक्टर रैली निकालने की योजना है. इसको लेकर किसानों ने प्रशासन को अपने रूट के बारे में बता दिया है. भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बुधवार को ये जानकारी दी.Also Read - किसान आंदोलन खत्‍म करें और घर लौटें, MSP समेत अन्य मुद्दों के लिए कमेटी बनाने की घोषणा हो चुकी है: कृषि मंत्री तोमर

उन्होंने कहा, “कल हम ट्रैक्टर रैली निकालेंगे. पहले हम 9 बजे डासना से अलीगढ़ वाले रुट तक जाएंगे दूसरा जत्था नोएडा से पलवल तक जाएगा. सरकार को सांकेतिक संदेश दे रहे हैं कि हमारी बात सुनी जाए. हमने प्रशासन को अपने रुट के बारे में बता दिया है.” Also Read - सरकार से बात करने के लिए किसानों ने प्रतिनिधि मंडल बनाया, Rakesh Tikait ने कहा- आंदोलन खत्म नहीं होगा

इससे पहले भारतीय किसान यूनियन भानु के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ तरुण भारद्वाज ने बताया कि नए कृषि कानूनों के विरोध में किसान गुरुवार को ट्रैक्टर रैली निकालेंगे. उन्होंने बताया कि किसान कल चिल्ला से ट्रैक्टर रैली निकालते हुए गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहे धरना स्थल पर पहुंचेंगे. Also Read - एक हज़ार किलो प्याज बेचकर कमा पाए सिर्फ 13 रुपए, किसान ने कहा- यह अस्वीकार्य है

गौरतलब है कि देश की राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले किसानों का आंदोलन बुधवार को 42वें दिन जारी है. केंद्र सरकार द्वारा लागू तीन नए कृषि कानूनों को रद्द करने और न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसलों की खरीद की मांग को लेकर आंदोलनरत किसानों की अगुवाई कर रहे यूनियनों के नेता इस समय ट्रैक्टर मार्च की तैयारी में जुटे हैं.

संयुक्त किसान मोर्चा ने ईस्टर्न और वेस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे पर गुरुवार को ट्रैक्टर मार्च निकालने का एलान किया है. पंजाब के किसान नेता और भारतीय किसान यूनियन के जनरल सेक्रेटरी हरिंदर सिंह लाखोवाल ने बताया कि आंदोलन तेज करने और कल (गुरुवार) के कार्यक्रम को सफल बनाने की तैयारी चल रही है. उन्होंने बताया कि पंजाब से भी लोग ट्रैक्टर के साथ पहुंच रहे हैं.

इसके अलावा, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के किसान भी ट्रैक्टर के साथ गुरुवार को होने वाली रैली के लिए पहुंच रहे हैं. किसान नेताओं ने बताया कि सात जनवरी को होने वाला ट्रैक्टर मार्च 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड का एक ट्रेलर होगा.

इससे पहले किसानों की मांगों को लेकर सोमवार को सरकार के साथ सातवें दौर की वार्ता बेनतीजा रहने के बाद किसान यूनियनों के नेताओं ने सात जनवरी को ट्रैक्टर मार्च निकालने का फैसला लिया. हालांकि, इससे पहले संयुक्त किसान मोर्चा ने वार्ता विफल होने पर छह जनवरी को ट्रैक्टर मार्च निकालने का ऐलान किया था, लेकिन मौसम खराब रहने के पूवार्नुमान को देखते हुए ट्रैक्टर मार्च का कार्यक्रम एक दिन बाद सात मार्च को रखने का निर्णय लिया गया है.

संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन तेज करने को लेकर छह जनवरी से लेकर 20 जनवरी तक देशभर में जनजागरण अभियान चलाने के साथ-साथ अन्य कार्यक्रमों का भी एलान किया है.

(इनपुट एजेंसी)