श्रीनगर: नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने शनिवार को कहा कि यह संसदीय चुनाव तय करेंगे कि जम्मू-कश्मीर “गरिमा के साथ संघ का हिस्सा रह पाएगा या नहीं. Also Read - Shopian-Tral Encounter: जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों-आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, अबतक पांच आतंकी मारे गए

श्रीनगर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे फारूक ने गांदरबल में चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए कहा कि लोगों को देश की धर्मनिरपेक्षता, अखंडता और एकता को बनाए रखने के लिए मतदान करना है. उन्होंने कहा कि यह चुनाव तय करेंगे कि क्या जम्मू-कश्मीर राज्य गौरव के साथ संघ का हिस्सा बना रह सकता है. राज्य के लोग अपनी पहचान की सुरक्षा के लिए बैलट के माध्यम से भाजपा और यहां के उसके साथियों से सीधे लड़ रहे हैं. इस बीच, नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला शनिवार को दावा किया कि जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खतरे में है. Also Read - Jammu and Kashmir: जम्मू कश्मीर के शोपियां में मुठभेड़ में तीन आतंकवादी ढेर

थेनी में बोले PM मोदी, ‘भारत की विश्व पटल पर तेजी से तरक्की के कारण विपक्ष मुझसे नाराज’ Also Read - Corona Positive Farooq Abdullah अस्पताल में हुए भर्ती, कुछ दिनों पहले ही लिया था कोरोना का टीका

उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि 2020 तक राज्य के संवैधानिक सुरक्षा उपायों को खत्म करने के उसके “स्पष्ट और बलशाली वचनों” से उसके “दुर्भावनापूर्ण एजेंडे” का पता चलता है. अनंतनाग के डाक बंगला इलाके में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए, नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता ने आरोप लगाया कि पिछली पीडीपी-भाजपा सरकार ने राज्य को अराजकता में डाल दिया है.

PM नरेंद्र मोदी 26 अप्रैल को करेंगे नामांकन, काशी में इस दिन को ग्रैंड-शो बनाने की तैयारी में भाजपा