फतेहपुर: गाजीपुर थाना क्षेत्र में सामूहिक दुष्कर्म की शिकार एक नाबालिग लड़की ने पुलिस से शिकायत की है कि आरोपियों के परिजन उसे ‘उन्नाव जैसा हश्र’ करने की धमकी दे रहे हैं. पुलिस सूत्रों ने बुधवार को बताया कि 20-25 दिन पहले गाजीपुर थाना क्षेत्र के एक गांव की 16 वर्षीय एक दलित किशोरी का कथित तौर पर अपहरण कर उसके साथ गांव के ही चार युवकों ने दुष्कर्म किया था. उन्होंने बताया कि सामूहिक दुष्कर्म के संबंध में मामला दर्ज कर मुख्य आरोपी को जेल भेज दिया गया है, बाकी तीन आरोपी अभी फरार हैं.

शिवराज सिंह चौहान का आरोप, ‘कांग्रेस एक धोखेबाज पार्टी, भरोसे के लायक नहीं’

सूत्रों ने बताया कि मंगलवार को पीड़िता अपने पूरे परिवार के साथ अपर पुलिस अधीक्षक के कार्यालय पहुंची और शिकायत की कि आरोपियों के परिजन मामले में सुलह न करने पर जान से मारने और उन्नाव सामूहिक दुष्कर्म की शिकार लड़की जैसा हश्र करने की धमकी दे रहे हैं. जाफरगंज के पुलिस उपाधीक्षक (सीओ) श्रीपाल यादव ने बताया कि गाजीपुर सामूहिक दुष्कर्म मामले में मुख्य आरोपी प्रदीप को तत्काल गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है. बाकी तीन फरार आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए लगातार दबिश दी जा रही है. इसके अलावा उनके खिलाफ अदालत में कुर्की का आदेश प्राप्त करने का भी आवेदन दिया गया है. उन्होंने पीड़िता और उसके परिजनों के मंगलवार को अपर पुलिस अधीक्षक से मुलाकात करने और धमकी दिए जाने की शिकायत करने की पुष्टि की.

यादव ने बताया कि इस मामले की जांच की जा रही है. यदि शिकायत में उल्लिखित तथ्यों की पुष्टि होती है तो धमकी दिए जाने का एक और मामला दर्ज किया जाएगा. सामूहिक दुष्कर्म की शिकार नाबालिग लड़की के पिता ने कहा कि जेल भेजा गया और फरार तीन आरोपी भी उसके गांव के हैं जिनके परिजन पैसा लेकर सुलह करने का दबाव बना रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘‘आरोपियों के परिजन सुलह न करने पर लड़की और हमें उन्नाव घटना की तरह जलाकर मार डालने की धमकी दे रहे हैं.’’ गौरतलब है कि उन्नाव जिले के बिहार थाना क्षेत्र में हाल ही में सामूहिक दुष्कर्म पीड़ित एक लड़की को जिंदा जला दिया गया था. बाद में, दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी. इस घटना ने पूरे देश को झकझोर दिया था. पुलिस इस मामले के सभी पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है.