नई दिल्ली: एक पिता को जब पता चला कि उसकी बेटी समलैंगिक (लेस्बियन) संबंध में है, तो उसने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली. यह घटना राष्ट्रीय राजधानी में शाहदरा के फर्श बाजार इलाके की है. मंगलवार रात को हुई इस घटना के बारे में बताते हुए पुलिस ने गुरुवार को कहा कि इस विशेष मामले की सभी एंगल से जांच की जा रही है.

एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, घटना के संबंध में पुलिस कंट्रोल रूम को मंगलवार रात एक फोन कॉल आई. इसके बाद इमरजेंसी रिस्पांस व्हीकल को घटनास्थल के लिए रवाना किया गया. उन्होंने कहा कि वह व्यक्ति अपने निवास पर खून में लथपथ पाए गए. उन्होंने कथित तौर पर अपने पेट में गोली मार ली थी और उनकी मौके पर ही मौत हो गई थी. शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया. अधिकारी ने बताया कि प्रथमदृष्टया जांच में यह पाया गया कि व्यक्ति की उनकी छोटी बेटी के साथ बहस हुई थी जो अपनी महिला मित्र के साथ रहना चाहती थी. झगड़े के बाद वह बाहर चले गए और 20 मिनट के बाद वापस आए. उन्होंने खुद को घर के बाहरी कमरे में जाकर गोली मार दी. यह बात उस समय घर में मौजूद उनकी पत्नी और बेटियों ने बताई.

फर्श बाजार पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज
उन्होंने बताया कि आर्म्स एक्ट की धारा 25/27/54/59 के तहत फर्श बाजार पुलिस स्टेशन में एक मामला दर्ज किया गया है. दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा-174 के तहत कार्रवाई की जा रही है और जांच जारी है. एक अन्य अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि बेटी के समलैंगिक संबंधों के बारे में जानने के बाद मंगलवार को मृतक के कई रिश्तेदार उनके घर पर इकट्ठे हुए थे. लड़की के पिता इस रिश्ते के पक्ष में नहीं थे और चाहते थे कि लड़की इस रिश्ते से खुद को हटा ले. लेकिन लड़की ने इनकार कर दिया.

2018 में सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से कर दिया था बाहर
उन्होंने कहा कि परिजनों ने स्थिति को शांत करने की कोशिश की, मगर लड़की के पिता घर के अंदर गए और उन्होंने खुद को देसी पिस्तौल से गोली मार ली. सुप्रीम कोर्ट ने 2018 में एक ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा-377 को हटाते हुए समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया था.