नई दिल्लीः फैक्टरी बंद होने की वजह से परेशान 44 वर्षीय व्यक्ति ने अपनी बेटी और बेटे की कथित रूप से हत्या करके रविवार को हैदरपुर बादली मोड़ मेट्रो स्टेशन पर ट्रेन के आगे कूदकर खुदकुशी कर ली. पुलिस ने यह जानकारी दी. घटनास्थल पर कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है लेकिन पुलिस का दावा है कि मृतक मधुर मलानी छह महीने पहले अपनी सैंड-पेपर उत्पादन फैक्टरी बंद होने से वित्तीय संकट से गुजर रहा था और अवसादग्रस्त था. उन्होंने बताया कि मधुर के माता-पिता उसके परिवार की तब से आर्थिक मदद कर रहे थे.

पुलिस के मुताबिक मधुर अपनी पत्नी रूपाली, बेटी समीक्षा (14) और छह वर्षीय बेटे श्रेयांश के साथ दिल्ली के शालीमार बाग इलाके में रहता था. पुलिस अधिकारी ने बताया कि रूपाली के घर पर नहीं रहने पर मधुर ने बच्चों की गला दबाकर या दम घोंटकर हत्या की. पुलिस अधिकारी ने बताया कि बच्चों की मौत का वास्तविक कारण पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट होगा.’’

अधिकारी ने बताया कि दोनों बच्चों की हत्या के बाद वह हैदरपुर बादली मोड़ मेट्रो स्टेशन पहुंचा और मेट्रो के आगे कूद गया, उसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

इस घटना की वजह से येलो लाइन पर ट्रेनों का परिचालन कुछ समय के लिए प्रभावित हुआ. दिल्ली मेट्रो रेल कार्पोरेशन (डीएमआरसी) ने ट्वीट किया, ‘‘हैदरपुर बादली मोड़ पर इस घटना की वजह से समयपुर बादली से जीटीबी नगर के बीच मेट्रो रेल सेवा में देरी हुई.’’ करीब 15 मिनट बाद डीएमआरसी ने एक और ट्वीट कर बताया कि सामान्य सेवाएं बहाल कर दी गई हैं.

उल्लेखनीय है कि दिल्ली मेट्रो की येलो लाइन दिल्ली के समयपुर बादली को गुरुग्राम में हुडा सिटी सेंटर से जोड़ती है. अधिकारियों ने बताया कि शालीमार बाग पुलिस को खुदकुशी की सूचना शाम पांच बजकर 40 मिनट पर मिली जबकि छह बजकर 50 मिनट पर बच्चों की हत्या की जानकारी मिली. रूपाली ने पुलिस को बताया कि वह अपराह्न तीन बजे नजदीकी बाजार गई थी जब वह लौटी तो दोनों बच्चों की लाश देखी और पति वहां पर नहीं था. पुलिस उपायुक्त (उत्तर पश्चिम) विजयंत आर्य ने बताया कि भारतीय दंड संहिता की प्रासंगिक धाराओं में मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी गई है.