नई दिल्ली: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्विटर पर अपनी आलोचना करने वाले एक ट्रोल को मंगलवार को तुरंत ‘ब्लॉक’ करते हुए कहा कि ‘इंतजार क्यों, लीजिए ब्लॉक कर दिया.’ एक हिंदू-मुस्लिम दंपती को पासपोर्ट जारी करने को लेकर वह पिछले कुछ दिनों से लगातार ट्रोल का सामना कर रही हैं.Also Read - पाकिस्तान से वापस लौटे हामिद अंसारी ने की सुषमा स्वराज से मुलाकात, मां बोली-'मेरी मैडम महान'

ट्रोल के खिलाफ वस्तुत: अकेली लड़ रही सुषमा ने अपनी आलोचना करने वाले एक ट्विटर यूजर को ब्लॉक कर दिया. विदेश मंत्री से जब एक ट्रोल ने उसे ब्लॉक करने को कहा, तब सुषमा ने ट्वीट किया, ‘‘इंतजार क्यों? लीजिए ब्लॉक कर दिया.’’ Also Read - पाकिस्तान अवैध कब्जे वाले सभी इलाकों को फौरन छोड़े, जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग: केंद्र

गौरतलब है कि पासपोर्ट विवाद को लेकर वह पिछले कुछ दिनों से ट्रोल के अभद्र पोस्ट को लाइक कर अपना विरोध प्रदर्शित कर रही थीं. ये ट्रोल उन्हें निशाना बना रहे थे. सुषमा ने बीते रविवार को ट्विटर पर एक सर्वेक्षण भी किया था. उन्होंने इसमें यूजर से पूछा था कि क्या वे लोग इस तरह की ट्रोलिंग को मंजूरी देंगे. इस पर 57 फीसदी लोगों ने ‘ना’ में जवाब दिया था, जबकि 43 फीसदी लोगों ने ‘हां’ में जवाब दिया. Also Read - पाकिस्तान से होते हुए भारत आए अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पिओ, सुषमा स्वराज ने किया रिसीव

दरअसल, लखनऊ स्थित पासपोर्ट सेवा केंद्र के अधिकारी विकास मिश्रा के तबादले के बाद सुषमा को ट्रोल निशाना बना रहे हैं. मिश्रा ने हिंदू-मुस्लिम दंपती को कथित तौर पर अपमानित किया था. इस मुद्दे पर विदेश मंत्री का समर्थन नहीं करने को लेकर विपक्षी कांग्रेस केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा की आलोचना कर रही है.

वहीं, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को कहा कि सुषमा को ट्रोल करना गलत है. इस मुद्दे पर टिप्पणी करने वाले वह भाजपा के पहले नेता एवं केंद्रीय मंत्री हैं. हालांकि, मंगलवार को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी सुषमा के समर्थन में उतर गए. उन्होंने कहा, ‘‘जिस तरह से सुषमा को ट्रोल किया गया और उनके खिलाफ जिस तरह का दुष्प्रचार किया गया, वह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. मेरी उनसे बातचीत हुई थी लेकिन जब फैसला (पासपोर्ट के विषय पर) लिया गया था, तब वह देश में नहीं थीं.’’

यह विवाद जिस वक्त हुआ था, उस समय विदेश मंत्री फ्रांस, बेल्जियम और लक्जमबर्ग की आधिकारिक यात्रा पर थीं. सुषमा ने 24 जून को ट्वीट कर कहा था, ‘‘मैं 17 से 23 जून 2018 तक भारत से बाहर थी. मैं नहीं जानती कि मेरी गैरहाजिरी में क्या हुआ. हालांकि, मुझे कुछ ट्वीट से सम्मानित किया गया. मैं उसे आपसे साझा कर रही हूं. इसलिए मैंने उन्हें लाइक किया है.’’