नई दिल्ली: केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली का सोमवार को दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में किडनी प्रत्यारोपण हुआ. अस्पताल के अधिकारियों के अनुसार करीब चार घंटे के ऑपरेशन के बाद उनकी हालत स्थिर है. 65 वर्षीय जेटली अप्रैल के शुरू से ही ज्यादातर काम घर से कर रहे थे. उन्हें शनिवार को अस्पताल में दाखिल कराया गया था. उनकी सर्जरी सुबह करीब 8.30 बजे शुरू हुई और दोपहर में करीब एक बजे तक चली. उसके बाद जेटली को सघन चिकित्सा कक्ष (आईसीयू) में रेफर किया गया.

अस्पताल के अधिकारियों के अनुसार जेटली और उनको किडनी दान करने वाली महिला, दोनों का स्वास्थ्य स्थिर है और उसमें सुधार हो रहा है. वरिष्ठ डाक्टरों की एक टीम उनकी लगातार निगरानी कर रही है. एम्स सूत्रों ने बताया कि जेटली की दूर की एक महिला रिश्तेदार ने उन्हें किडनी दी है. जेटली से जुड़े सूत्रों ने बताया कि उनके 10 से 15 दिनों तक अस्पताल में रहने की संभावना है. सर्जरी के बाद की जांच रिपोर्ट सामान्य है और उनकी तबियत में सुधार हो रहा है. पीएम मोदी भी लगातार जेटली के परिवार के संपर्क में हैं.

इससे पहले एम्स के अधिकारियों ने बताया कि केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली की प्रत्यारोपण सर्जरी सफल रही. जेटली और किडनी दानकर्ता, दोनों का स्वास्थ्य स्थिर है और उनमें सुधार हो रहा है.’’ जेटली की सर्जरी में 20 डॉक्टरों की टीम लगी थी. टीम में अपोलो अस्पताल के गुर्दा प्रत्यारोपण विशेषज्ञ डॉ संदीप गुलेरिया और उनके भाई और एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया भी शामिल थे. संदीप गुलेरिया जेटली के पारिवारिक मित्र हैं.

जेटली की सर्जरी के बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और जितेंद्र सिंह उन्हें देखने एम्स गए. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना की. राहुल ने ट्वीट किया, “मैं यह सुनकर खुश हूं कि एम्स में आज जेटली जी का किडनी प्रत्यारोपण हो गया. उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं.” किडनी की बीमारी से ग्रस्त केन्द्रीय मंत्री का पिछले एक महीने से डायलिसिस हो रहा था.

खराब स्वास्थ्य के कारण जेटली ने पिछले महीने अपने आधिकारिक विदेश दौरों को रद्द कर दिया था. उन्होंने छह अप्रैल को एक ट्वीट के जरिए अपनी बीमारी की पुष्टि की थी. जेटली के हृदय का कई साल पहले ऑपरेशन हो चुका है.

(इनपुट: एजेंसी)