नई दिल्ली. वित्तमंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर बड़ा फैसला लिया है. वित्त मंत्री ने कहा है कि पेट्रोल डीजल पर एक्साइज ड्यूटी 1.5 रुपये कम होगी. ऐसे में पेट्रोल-डीजल 2.5 रुपये प्रतिलीटर सस्ता होगा. वित्तमंत्री ने राज्य सरकारों से अपील की कि वे भी पेट्रोल के दाम घटाएं. उन्होंने कहा कि इसके लिए केंद्र सरकार राज्य सरकारों के मुख्यमंत्रियों से बात करेंगी. एक्साइज ड्यूटी में इस कटौती से केंद्रीय खजाने को इस साल के बाकी बचे महीनों में करीब 10500 करोड़ रुपये का नुकसान होगा.

 

जेटली ने कहा कि ब्रेंट क्रूड बुधवार को चार साल के उच्चतम स्तर 86 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया, अमेरिका में ब्याज दर सात साल के उच्च स्तर पर है. मुद्रास्फीति अभी चार प्रतिशत से कम, ऊंचे कर संग्रह से राजकोषीय घाटे के मोर्चे पर संतोषजनक स्थिति में है. जेटली ने डीजल, पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क में डेढ़ रुपये प्रति लीटर कटौती की घोषणा की.

मंत्री अरुण जेटली ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि उत्पाद शुल्क में कटौती से केंद्र सरकार को 10,500 करोड़ रुपये के कर राजस्व का नुकसान होगा. जेटली ने राज्य सरकारों से भी इसी अनुपात में बिक्री कर या वैट में कटौती करने का आग्रह किया.