नई दिल्ली: देश में लॉकडाउन 4.0 पर बीते कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया. इस दौरान कई अहम मुद्दों पर उन्होंने अपनी बात कही. इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा आत्मनिर्भर भारत के मद्देनजर की. इसी कड़ी में आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए देश को किया. इस दौरान उन्होंने कई अहम मुद्दों पर बात की. उन्होंने बताया कि यह पैकेज भारत के आत्मनिर्भर बनाने के लिए काफी उपयोगी साबित होगा. वित मंत्री ने कई आर्थिक मामलों पर चर्चा की. आईए जानें निर्मला सीतारमण के भाषण की 10 महत्वपूर्ण बातें. Also Read - अमेरिका में कोरोना वायरस से 1,00,000वें व्यक्ति की मौत, 500 से अधिक भारतीय भी हुए आकाल मौत के शिकार

1-  अपने भाषण में उन्होंने MSME (Ministry of Micro, Small and Medium Enterprises)  सेक्टर के लिए 6 बड़ी घोषणाएं की. ये हैं वो 6 घोषणाएं- Also Read - अम्फान प्रभावितों की मदद को आगे आया KKR, किया इस नेक काम का वादा

A- MSME सेक्टर को 3 लाख करोड़ का बिना गारंटी लोन दिया जाएगा.  यह लोन 4 साल के लिए बिना गारंटी दिया जाएगा. Also Read - Coronavirus In India Update: कोरोना ने ढाया कहर, 24 घंटे में कुल 194 लोगों की हुई मौत, इन राज्यों का बुरा हाल

B- MSME सेक्टर के लिए 50 हजार करोड़ इक्विटी इंफ्यूज होगी.

C- संकट में फंसे MSME के लिए 20 हजार करोड़ का पैकेज.

D- 25 लाख की मैनुफैक्चरिंग यूनिट पहले माइक्रो की श्रेणी में आता था. लेकिन अब इसमें बदलाव कर दिया गया है. अब 1 करोड़ तक के निवेश वाले उद्योग भी माइक्रो श्रेणी में ही आएंगे.

E- स्मॉल उद्योग में 10 करोड़ का निवेश और 50 करोड़ का टर्नओवर आएगा. वहीं मीडियम में 20 करोड़ का निवेश और 100 करोड़ का टर्नओवर आएगा. ये MSME के लिए बड़ी राहत है. अब उनको व्यापार करने में सहुलियत होगी.

F- सभी MSME के लिए ऑनलाइन जोड़ा जाएगा. क्योंकि कोरोना के बाद ट्रेड फेयर का आयोजन करना मुश्किल है.

2- इपीएफ को लेकर वितमंत्री ने कहा कि वित्त मंत्री ने कहा कि लॉकडाउन शुरू होने के वक्त कहा गया था भारत सरकार ईपीएफओ में तीन माह तक योगदान देगी. उसे अब और तीन माह तक बढ़ा दिया गया है. वहीं पीएफ में अंशदान 12 फीसदी से घटाकर 10 फीसदी कर दिया गया है. हालांकि केंद्र और पब्लिक सेक्टर में यह अंशदान 12 फीसदी ही रहेगा. वित्तमंत्री ने कहा कि प्राइवेट सेक्टर में ईपीएफओ में अंशदान घटाया दिया गया है वहीं टेक होम सैलरी में वृद्धि की गई है. इससे 72 लाख 22 हजार कर्मचारियों को फायदा. यह नियम सिर्फ तीन महीने के लिए लागू की गई है. साथ ही सैलरी का 24 फ़ीसदी पीएफ सरकार जमा करेगी.

3- वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने आगे बोलते हुए कहा कि NBFC के लिए आंशिक ऋण योजना लाई जा रही है.

4- डिस्कॉम यानी बिजली वितरण कंपनियों पर बोलते हुए वितमंत्री ने कहा कि यह सेक्टर फिलहाल संकट में है. बिजली वितरण कंपनियों की स्थिति ठीक नहीं है, इसलिए उनके लिए 90 हजार करोड़ का प्रावधान किया गया है.

5- कॉन्ट्रैक्टर्स पर बोलते हुए निर्मला सीतारमण ने कहा कि इन्हें इनके काम में छह माह का एक्सटेंशन दिया जाएगा. साथ ही काम खत्म करने की मियाद में भी रियायत दी जाएगी.

6- रीयल स्टेट पर बोलते हुए वित्तमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस को एक्ट ऑफ गॉड की श्रेणी में रखा जाएगा. इस कारण रजिस्ट्रेशन और निर्माण कार्य पूरा करने के तारीख को बढ़ाई जा सकती है. फिलहाल के लिए 6 महीने तक इनके कार्यों को आगे बढ़ा दिया जाए. 25 मार्च के बाद अगले 6 महीने तक की अवधि को बढ़ा दिया जाएगा. इससे डेवलपर्स को फायदा होगा. बता दें कि इस बाबत शहरी विकास मंत्रालय निर्देश जारी करेगा.

7- टैक्स कटौती के मुद्दे पर वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि टीडीएस और टीसीएस को 25 फीसदी घटाया जाएगा. यह कल से लागू हो जाएगा और यह अगले साल मार्च तक लागू रहेगा. यह सभी टैक्स पेयर्स के लिए बहुत बड़ी राहत है. उन्होंने आगे इस मामले पर बोलते हुए काहा कि सभी तरह के रिफंड मे तेजी लाई जाएगी. साथ ही हर सेक्टर के लोगों के बकाया पैसों को उनके हाथों में जल्द से जल्द उपलब्ध कराया जाएगा. वहीं इनकम टैक्स रिटर्न पर वित्तमंत्री ने कहा कि सभी इनकम टैक्स रिटर्न्स को 31 जुलाई 2020 और 31 अक्टूबर 2020 से बढ़ाकर  30 नवंबर 2020 तक किया जाएगा. वहीं टैक्स असेस्मेंट की समय सीमा को 3 दिसंबर 2020 तक बढ़ा दी गई है.

8- 15 हज़ार से कम सैलरी वालों को सरकारी सहायता दी जाएगी. ऐसे लोग पीएफ से अपना पैसा ले सकते हैं, ताकि उनके हाथ में रुपए रहेंगे.

9- 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज में से 6 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की हो गई घोषणा.