नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल के नादिया जिले में तृणमूल कांग्रेस के विधायक सत्यजीत बिस्वास की हत्या के मामले में रविवार को भाजपा नेता मुकुल रॉय समेत चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी. पश्चिम बंगाल पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि एफआईआर में चार लोगों का नाम है जिनमें से दो को गिरफ्तार कर लिया गया है. राज्य विधानसभा की किशनगंज विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले बिस्वास (41) की शनिवार शाम जिले के फूलबाड़ी इलाके में एक सरस्वती पूजा पंडाल में अज्ञात हमलावरों ने निकट से गोली मारकर हत्या कर दी थी.Also Read - AIMIM ओवैसी बोले- कांग्रेस, सपा के लोग कलीम सिद्दीकी पर मुझसे बोलने को कह रहे, मैंने उनसे पूछा...

उन्हें तत्काल एक स्थानीय अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. अधिकारी ने कहा, इस मामले में हमनें अब तक दो लोगों को गिरफ्तार किया है जबकि तीन अन्य को हिरासत में लिया गया है. विधायक को गोली मारने के लिए इस्तेमाल हुई देसी रिवॉल्वर भी बरामद की गई है. उन्होंने कहा, “हमारी शुरुआती जांच के मुताबिक, ऐसा लगता है कि पीड़ित को पीछे से गोली मारी गई और यह सोची समझी साजिश का हिस्सा था. हमलावरों के इलाके से भाग जाने की आशंका के बारे में पूछे जाने पर पुलिस अधिकारी ने कहा कि प्रदेश पुलिस बेहद सतर्कता बरत रही है. Also Read - BJP ने गठबंधन का ऐलान किया, अपना दल और निषाद पार्टी के साथ मिलकर UP विधानसभा का चुनाव लड़ेगी

Also Read - Jharkhand News: रांची में सरेआम BJP नेता की गोली मारकर हत्या, भाजपा ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की

उन्होंने कहा, “नादिया की सीमा बांग्लादेश से लगती है और इस बात की आशंका है कि वे (हमलावर) पड़ोसी देश भागने की कोशिश कर सकते हैं. सीमा पर आवाजाही पर नजर रखने के लिये पुलिस हाईअलर्ट पर है. तृणमूल कांग्रेस की तरफ से पूर्व संसद सदस्य रहे रॉय ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से संबंधों में खटास आने के बाद भाजपा का दामन थाम लिया. तृणमूल कांग्रेस के महासचिव पार्थ चटर्जी ने हमले को भाजपा की साजिश करार देते हुए शनिवार को कहा कि पूरी जांच के बाद हत्या में शामिल लोगों को सजा दी जाएगी. उन्होंने यह भी कहा कि भगवा दल लोकसभा चुनावों से पहले गड़बड़ी फैलाने की कोशिश कर रही है.

रॉय और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने आरोपों को “निराधार” करार दिया था. रॉय ने कहा कि पश्चिम बंगाल में जब किसी की हत्या उनके ही लोगों या अन्य उपद्रवियों द्वारा की जाती है, तो टीएमसी और सरकार यह बताने की कोशिश करती है कि यह बीजेपी नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा किया गया है. उन्होंने स्वतंत्र जांच एजेंसी से जांच की मांग की. उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी हमसे डरी हुई हैं. ममता बनर्जी के कहने पर बीजेपी के खिलाफ केस दर्ज किया गया है.

(इनपुट-भाषा)