रायपुर: छत्तीसगढ़ में चर्चित अंतागढ़ उप चुनाव मामले में कांग्रेस प्रवक्ता ने पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और पूर्व मंत्री राजेश मूणत समेत पांच लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है. रायपुर जिले के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि शहर के पंडरी थाना क्षेत्र में सत्ताधारी दल कांग्रेस की प्रवक्ता किरणमयी नायक ने अंतागढ़ उप चुनाव मामले में पूर्व मुख्यमंत्री और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के अध्यक्ष अजीत जोगी, उनके पुत्र अमित जोगी, पूर्व मंत्री और भाजपा नेता राजेश मूणत, अंतागढ़ उप चुनाव के प्रत्याशी रहे मंतु राम पवार और पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के दामाद पुनीत गुप्ता के खिलाफ मामला दर्ज कराया है.

नीतीश कुमार को अंदेशा, आचार संहिता लगने से पहले देश में कुछ भी हो सकता है

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बीती देर रात नायक पंडरी थाना पहुंचीं और उन्होंने पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया. नायक ने कहा है कि वर्ष 2014 में अंतागढ़ विधानसभा सीट के लिए हुए उप चुनाव में कांग्रेस ने मंतु राम पवार को अपना प्रत्याशी बनाया था. लेकिन चुनाव से ठीक पहले पार्टी पदाधिकारियों को बगैर जानकारी दिए पवार ने अपना नाम वापस ले लिया था. नायक ने आरोप लगाया है कि पवार ने षड़यंत्र के तहत आर्थिक प्रलोभन और आर्थिक लाभ लेकर नाम वापस लिया था.

पश्चिम बंगाल में संवैधानिक व्यवस्थाएं टूटने की ओर: राजनाथ सिंह

उन्होंने कहा है कि मंतु राम पवार को यह प्रलोभन अजीत जोगी, अमित जोगी, राजेश मूणत और गुप्ता ने दिया था. पवार को रिश्वत देकर निर्वाचन में असर डाला गया है. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि नायक की शिकायत के बाद पुलिस ने जोगी पिता पुत्र, पवार, मूणत और गुप्ता के खिलाफ धोखाधड़ी और षड़यंत समेत अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है.

छोटे को मिली पिता की नौकरी, बड़े भाई ने नफरत की आग में चार को जिंदा जलाया

इधर पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने इन आरोपों को निराधार और असत्य बताया है. जोगी ने कहा है कि आरोप निराधार, मनगढ़ंत और बेबुनियाद हैं. पवार को अंतागढ़ उपचुनाव में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल ने टिकट दिया था. मंतु राम ने नाम वापस क्यों लिया है वह नहीं जानते हैं और लंबे समय से मंतु राम पवार से उनका कोई संपर्क नहीं है.

4 साल की मासूम की जिंदगी तबाह करने वाले टीचर को इस दिन होगी फांसी

भाजपा नेता मंतु राम पवार ने कहा है कि सरकार बदले की भावना से कार्य कर रही है. पहले इस मामले में एसआईटी जांच की घोषणा की गई तथा बाद में फिर एफआईआर दर्ज करायी जा रही है. पवार ने आरोप लगाया कि कांग्रेस पार्टी और सरकार एक आदिवासी को मानसिक, सामाजिक और पारिवारिक रूप से प्रताड़ित कर रही है.

राज्य में साल 2013 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान अंतागढ़ विधानसभा सीट में भाजपा के विक्रम उसेंडी विजयी हुए थे. बाद में वर्ष 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में वह कांकेर लोकसभा सीट के लिए चुन लिए गए थे. जब अंतागढ़ विधानसभा सीट के लिए उप चुनाव हुआ तब मतदान से पहले कांग्रेस प्रत्याशी मंतुराम पवार ने अपना नाम वापस ले लिया था. इस चुनाव में भाजपा प्रत्याशी भोजराज नाग की जीत हुई थी.

साल 2015—16 में अंतागढ़ उप चुनाव को लेकर एक ऑडियो टेप जारी हुआ था. जिसमें इस चुनाव के दौरान कथित रूप से पैसे के लेनदेन का मामला सामने आया था. टेप में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, उनके बेटे अमित जोगी और पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के दामाद पुनीत गुप्ता के मध्य हुई बातचीत को लेकर था. इस टेप के सामने आने के बाद उस समय के मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने अंतागढ़ उप चुनाव के दौरान पैसे के लेनदेन का आरोप लगाया था. हालंकि पूर्व मुख्यमंत्री जोगी और रमन सिंह ने इस मामले में शामिल होने से इनकार किया था.

बाद में कांग्रेस ने अमित जोगी को पार्टी से बर्खास्त कर दिया था. जिसके बाद अजीत जोगी ने राज्य में नई राजनीति पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) का गठन कर लिया था. इधर वर्ष 2015 में मंतूराम पवार भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए थे. राज्य में वर्ष 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत के बाद राज्य सरकार ने इस मामले की जांच के लिए जांच दल का गठन किया है.