नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश की शिकायत के बाद पुलिस ने आप विधायक अमानतुल्लाह खान और अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है. विधायक के खिलाफ सरकारी कर्मचारी को काम करने से रोकने और आपराधिक साजिश के आरोप में केस दर्ज हुआ है. इनके खिलाफ धारा 186, 353, 323, 342, 504, 506(2) और 120बी के तहत मामला दर्ज हुआ है. अंशु प्रकाश ने आज दिल्ली पुलिस से कथित मारपीट मामले की शिकायत की थी. उन्होंने अपनी शिकायत में उस रात की पूरी घटना का विवरण दिया है. उन्होंने बताया कि कैसे उनके साथ आप विधायकों ने बदसलूकी की. Also Read - इंजीनियरिंग की, मिस इंडिया दिल्ली बनीं, अब पॉलिटिक्स करेंगी 21 साल की ये मॉडल, अरविंद केजरीवाल की...

अंशु प्रकाश ने पुलिस को दी ये शिकायत

1-मुझे 19 फरवरी की रात 8.45 बजे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सलाहकार वीके जैन का फोन आया कि आपको रात 12 बजे सीएम आवास पर आना है. सीएम और डिप्टी सीएम से टीवी विज्ञापन के संबंध में आ रही दिक्कत पर चर्चा होनी है. मैंने कहा कि बैठक कल सुबह रख दीजिए, लेकिन वो नहीं माने. इससे पहले डिप्टी सीएम ने 6.55 बजे मुझे फोन कर कहा था कि अगर कल शाम तक टीवी विज्ञापन का मुद्दा नहीं सुलझा तो मुझे रात 12 बजे सीएम आवास पहुंचकर इस मसले चर्चा करनी होगी. मैंने कहा कि जो भी विज्ञापन होगा वो सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंस के अनुसार ही होगा.

2-रात 11.30 बजे वीके जैन ने मुझे फिर फोन किया कि मैं सीएम आवास के लिए निकला या नहीं. इस पर मैं अपने आवास से अपनी सरकारी कार में ड्राइवर और पीएसओ के साथ सीएम आवास के लिए निकला और यहां पहुंचा.

पढ़ें- गृह मंत्रालय पहुंचा मुख्य सचिव से बदसलूकी का मामला, राजनाथ ने एलजी से रिपोर्ट की तलब  

3-सीएम आवास पहुंचने के बाद वीके जैन मुझसे मिले और फ्रंट रूम में ले गए. वहां सीएम केजरीवाल, डिप्टी सीएम और 11 विधायक मौजूद थे. सीएम ने मुझसे कहा कि ये आप विधायक हैं और आप सरकार के तीन साल पूरे होने पर पब्लिसिटी प्रोग्राम को लेकर बात करना चाहते हैं. इसके बाद विधायक अमानतुल्लाह खान ने जोर से दरवाजा बंद कर दिया. मुझे एक सोफे पर विधायक अमानतुल्लाह और दूसरे विधायक के बीच में बैठाया गया. सीएम ने मुझसे कहा कि आप इन विधायकों के सवालों के जवाब दीजिए कि विज्ञापन कैंपेन जारी करने में देरी क्यों हो रही है. इस पर मैंने कहा कि जो भी हो रहा है सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंस के अनुसार ही हो रहा है.

4-इसके बाद सभी विधायक मुझ पर चिल्लाने लगे और गाली देने लगे. वो मुझे और ब्यूरोक्रेसी पर आरोप लगा रहे थे कि विज्ञापन जारी करने में देरी की जा रही है. एक विधायक, जिसे मैं पहचान सकता हूं, उसने कहा कि अगर मैं टीवी विज्ञापन जारी नहीं करता तो रात भर यहीं बैठाए रखा जाएगा. एक विधायक ने मुझे एससी-एसटी केस में फंसाने की धमकी दी, एक ने मुझे जान की भी धमकी दी. तभी विधायक अमानतुल्लाह खान और मेरी दूसरी तरफ बैठे विधायक ने मुझे पर हमला करना शुरू कर दिया, उन्होंने मेरे सिर पर मुक्के मारे. मेरा चश्मा नीचे गिर गया, मैं सदमे में था. मैं किसी तरह वहां से निकला और कार में बैठकर वापस घर आ गया.

दिल्ली पुलिस ने भी इस बात की तस्दीक की है कि इस मामले में पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है और जांच जारी है. साथ ही दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता दीपेंद्र पाठक ने कहा कि सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी शिकायत दर्ज कराई है कि उनके साथ लिफ्ट में बदसलूकी हुई, जांज जारी है.

मामले ने पकड़ा तूल

दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से बदसलूकी का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. आईएएस दानिक्स और अधीनस्थ सेवा कर्मचारी संघ काम नहीं करने की बात पर अड़ा है. वहीं इस मामले में अह गृह मंत्रालय ने भी रिपोर्ट तलब की है. उधर, आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला भी तेज हो गया है. आप नेता-विधायक जहां मुख्य सचिव पर आरोप लगा रहे हैं वहीं, कर्मचारी काम के बहिष्कार पर अड़े हैं. दिल्ली प्रशासनिक अधीनस्थ सेवा अध्यक्ष डीएन सिंह ने मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से कथित मारपीट पर कहा कि जब तक इस मामले में कार्रवाई नहीं होती, हम काम पर नहीं लौटेंगे. आज हम इसके विरोध में राजघाट पर कैंडल मार्च निकालेंगे. गृह मंत्री ने भी इस पर रिपोर्ट तलब की है.