मुंबई: मुंबई पुलिस ने जेएनयू हिंसा के खिलाफ सोमवार को गेटवे ऑफ इंडिया पर प्रदर्शन के दौरान “कश्मीर की आजादी” वाले विवादित पोस्टर के साथ विरोध जाहिर कर रही महिला के खिलाफ मंगलवार को प्राथमिकी दर्ज की. प्रदर्शन के दौरान बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा “कश्मीर की आजादी” वाला बड़ा सा पोस्टर लिए महिला की तस्वीरें और वीडियो वायरल हो गए थे. इन तस्वीरों और वीडियो को देख भाजपा नेता और सोशल मीडिया के कई उपयोगकर्ता भड़क गए जिन्होंने पूछा कि शहर में ऐसे “अलगाववादी तत्वों” को कैसे बर्दाश्त किया जा सकता है. मुंबई पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि महक मिर्जा प्रभु के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 153 बी के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है.

महक ने अपने इंस्टाग्राम हैंडल से एक वीडियो भी साझा किया है जिसमें वो इस पूरे विवाद को समझाते हुए नजर आ रही हैं.

इस मामले को लेकर महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने ट्वीट कर उद्धव ठाकरे से सवाल किए हैं.

उन्होंने कहा कि ये प्रदर्शन किस लिए है? फ्री कश्मीर के पोस्टर क्यों हैं? हम मुंबई में ऐसे अलगाववादी तत्वों को कैसे बर्दाश्त कर सकते हैं? मुख्यमंत्री कार्यालय से 2 किमी दूर आजादी गैंग फ्री कश्मीर के नारे लगा रही? उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे क्या आप भारत विरोधी फ्री कश्मीर अभियान को अपनी नाक के नीचे बर्दाश्त होने देंगे ?

इनपुट- भाषा