नई दिल्ली/वाराणसी. लाल बहादुर शास्त्री (एलबीएस) एयरपोर्ट भारत का पहला ऐसा एयरपोर्ट होने जा रहा है जिसके रनवे के अंदर से हाईवे गुजरेगा. भारत में इस तरह के फीचर वाला यह पहला रनवे होगा. यह रनवे जल्द ही 1075 किमी तो बढ़ा दिया जाएगा.

बता दें कि लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट के रनवे की लंबाई 2750 किमी है. इसे बढ़ा कर 4075 किमी करने की योजना है. इससे इस रनवे पर बड़े-बड़े कार्गो विमान और बोइंग प्लेन उतर सकते हैं. रनवे की लंबाई बढ़ाने से NH-56 एयरपोर्ट रनवे के अंदर से गुजरने लगेगा. बता दें कि इस हाईवे को भी 4 लेन का बनाने की योजना है.

इस प्रोजेक्ट को एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने पहले ही अनुमति दे दी है. वाराणसी लखनऊ हाईवे भी इस रनवे से जुड़ेगा. इस अंडरपास के बादNH-56 के लंबे समय से रुके अलाइनमेंट की समस्या दूर हो जाएगी. साथ ही यह बाईपास 4 लेन का भी हो जाएगा.
आज से ताजमहल सहित कई स्मारकों का दीदार करना हुआ महंगा, चुकानी होगी इतनी कीमत

बता दें कि NH-56 के एक्सपेंशन का प्रपोजल लगभग 10 साल पहले ही प्रॉसेस में आ गया था. इसे साल 2013 में यूपीए सरकार ने अप्रूव भी कर लिया था, लेकिन इसके बाद भी काम में बहुत प्रगति देखने को नहीं मिली थी.
सांड ‘भोला’ की मौत का ऐसा गम, डेढ़ लाख रुपए खर्च कर 5 हजार लोगों को खिलाया खाना, बीजेपी MLA भी पहुंचे

एयपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया का ये प्रपोजल साल 2015 तक नजरअंदाज किया गया था. इसके बाद 27 मार्च 2015 को एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने उत्तर प्रदेश सरकार को एक चिट्ठी लिखी. इसमें उन्होंने सिविल एविएशन डिपार्टमेंट के डायरेक्टर से जमीन की मांग की. बता दें कि लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट की वाराणसी से दूरी 26 किमी है. नेशनहाईवे और एयरपोर्ट रनवे का काम एक साथ किया जाएगाय