Jammu-&-Kashmir Also Read - महबूबा मुफ्ती और फारूक अब्दुल्ला को भारत में रहने का अधिकार नहीं: केंद्रीय मंत्री

श्रीनगर/जम्मू: भारत के सीमावर्ती राज्य जम्मू एवं कश्मीर विधानसभा चुनाव के लिए प्रथम चरण का मतदान मंगलवार को होगा और इसके लिए तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी है। इस बार कांग्रेस, पीडीपी और नैशनल कॉन्फ्रेंस के अलावा भारतीय जनता पार्टी भी पूरी उत्साह से चुनावी मैदान में उत्तर चुकी है । Also Read - उमर अब्दुल्ला नए भूमि कानून पर खींझे, कहा- जम्मू-कश्मीर बिक्री के लिए तैयार!

इन चुनावो में पुराने साथी एक दूसरे के सामने खड़े है। पिछले ६ साल से घाटी में सत्ता में सहभागी कांग्रेस और नैशनल कॉन्फरन्स का गठबंधन ख़त्म होचुका है और यह दोनों ही एक दूसरे के खिलाफ मैदान में हैं। Also Read - महबूबा मुफ्ती को भारत और उसके कानून पसंद नहीं तो परिवार के साथ पाकिस्तान चले जाना चाहिए : नितिन पटेल

चुनाव प्रचार के दौरान कई मुद्दे सुर्खियों में रहे। इनमें भ्रष्टाचार, सत्ता में परिवारवाद, आर्थिक सुधार के उपाय, राज्य में बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग और अनुच्छेद 370 शामिल रहे।

जम्मू कश्मीर में प्रचार के दौरान सभी पार्टी की और से पूरा दमखम लगाया गया। एक और कांग्रेस की और से सोनिया गांधी ने घाटी में चुनावी सभाए की तो वही भारतीय जनता पार्टी के और से प्रधानमंत्री ने खुद मोर्चा संभाला।

पहले चरण के दौरान १५ निर्वाचन क्षेत्र में चुनाव होने हैजिनमें किश्तवाड़, इंद्रबल, डोडा, भद्रवाह, रामबन और बनिहाल; गुरेज, बांदीपुरा, सोनवरी, कंगन और (कश्मीर में) गांदरबल, नोब्रा, लेह, कारगिल और जांस्कर शामिल है।

इन चुनावो में कुल १२३ प्रत्याशी अपनी किस्मत आज़मा रहे है। इनमे कई दिग्गज भी शामिल है। पहले चरण में ७ मंत्री अपनी दोबारा से जीतने के लिए प्रयत्न करेंगे।