नई दिल्ली: ये फोटोज हैं, उस पहली स्‍पेशल ट्रेन के जो कोरोना वायरस के चलते लॉकडॉउन में फंस हुए प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों में पहुंचाने के लिए रास्‍ते में हैं. यह स्‍पेशल ट्रेन शुक्रवार को अल सुबह तेलंगाना के लिंगमपल्‍ली में फंसे 1,200 प्रवासियों को लेकर झारखंड के हटिया के लिए रवाना हुई. संयोग से लॉकडॉउन में फंस मजदूरों के लिए अंतराष्‍ट्रीय मजदूर दिवस आज के दिन राहत लेकर आया है. Also Read - Coronavirus In World Update: पूरी दुनिया कोरोना के खौफ में, अमेरिका में मौत का आंकड़ा 1 लाख के करीब, जानें बड़े देशों का हाल

इंडियन रेलवे ने लॉकडाउन शुरू होने के बाद से पहली बार तेलंगाना के लिंगमपल्ली में फंसे 1,200 प्रवासियों को झारखंड के हटिया तक ले जाने के लिए शुकव्रार को विशेष ट्रेन चलाई. Also Read - Blouse Designs 2020: लॉकडाउन के बाद प्लान कर रही हैं शादी, तो इन स्टाइलिश ब्लाउज पर डालें एक नजर

आरपीएफ के डीजी अरुण कुमार ने बताया, ”24 बोगियों वाली यह ट्रेन शुक्रवार सुबह चार बजकर 50 मिनट पर रवाना हुई.” उन्होंने बताया कि यह प्रवासियों के लिए अब तक चलने वाली पहली ट्रेन है. संयोग से शुक्रवार को अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस भी है.

तेलंगाना सरकार के अनुरोध और केंद्रीय रेल मंत्रालय के निर्देशानुसार आज एक विशेष ट्रेन लिंगमपल्ली (हैदराबाद) से हटिया (झारखंड) तक के चलाई गई है.

तेलंगाना के लिंगमपल्ली से 1200 प्रवासियों को झारखंड के हटिया तक लेकर जाने वाली पहली ट्रेन शुक्रवार सुबह चार बजकर
50 मिनट पर रवाना हुई.