अगरतला: देश के पूर्वोत्तर क्षेत्र से शनिवार को पांच और नए कोरोना वायरस मामले सामने आए हैं. इसी के साथ पूर्वोत्तर में कोरोना के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 29 हो गई है, जिसमें अकेले असम राज्य में 25 संक्रमित लोग शामिल हैं. मंत्रियों और अधिकारियों ने यह जानकारी दी. क्षेत्र के कुल 29 पॉजिटिव मामलों में से 26 ने दिल्ली की निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था. वहीं एक मणिपुरी लड़की और मिजोरम के व्यक्ति को पिछले महीने ब्रिटेन और नीदरलैंड से लौटने के बाद संक्रमित पाया गया था. Also Read - Coronavirus Effect: अब इस राज्य में पोस्टमैन घर-घर पहुंचाएंगे आम और लीची, जानें क्या है सरकार की प्लानिंग

कामरूप (मेट्रो) जिले के एक और 52 वर्षीय असम के व्यापारी में भी संक्रमण पाया गया है, जिसके नमूनों की रिपोर्ट शुक्रवार रात पॉजिटिव मिली है. पूर्वोत्तर क्षेत्र में 29 पॉजिटिव मामलों के अलावा, असम के चार लोग और त्रिपुरा के दो लोग, जो जमात की मंडली में शामिल हुए थे, उन्हें भी संक्रमित पाया गया है. असम के स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने नोवेल कोरोना वायरस के ताजा मामलों के बारे में अपने अलग-अलग ट्वीट में जानकारी दी. सरमा ने कहा कि राज्य के उत्तर लखीमपुर, गोलाघाट, कामरूप (मेट्रो), कामरूप और मरिगा जिलों के पांच और लोगों को शुक्रवार देर रात और शनिवार को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. इस तरह से राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या 25 तक पहुंच गई है. Also Read - सुप्रीम कोर्ट ने कहा- तबलीगी जमात पर फर्जी खबरों के आरोप वाली याचिकाओं में NBA भी बने पक्षकार


स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि असम के चार व्यक्ति, जो धार्मिक कार्यक्रम में शामिल हुए थे, लेकिन वह दिल्ली में ही बने रहे, अब उनके नमूनों में वे संक्रमित पाए गए हैं. सरमा ने केंद्र सरकार के बयान का हवाला देते हुए कहा कि तबलीगी बैठक में असम से 550 से 600 लोग शामिल हुए थे. उन्होंने कहा, इन उपस्थित लोगों में से लगभग 500 के नमूने एकत्र किए गए हैं और इनकी रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है. सरमा ने एक राष्ट्रीय टेलीविजन चैनल के साथ बातचीत में अपना गुस्सा जाहिर करते हुए कहा कि लोग कोरोना के मामलों के बारे में खुलकर सामने नहीं आ रहे हैं. उन्होंने कहा, जब हम बार-बार आपसे अपील कर रहे हैं, फिर भी आप प्रशासन को जानकारी नहीं दे रहे हैं. आप इन मामलों को क्यों छिपा रहे हैं?

वहीं अगरतला में त्रिपुरा के स्वास्थ्य सचिव देबाशीष बसु ने कहा कि त्रिपुरा के दो लोग, जिन्होंने तब्लीगी जमात के कार्यक्रम में भाग लिया था, उन्हें कोरोना संक्रमण हुआ है और अब वे राजस्थान के बीकानेर में एक एकांतवास केंद्र में हैं.