नई दिल्लीः दिल्ली सरकार के बाबू जगजीवन राम अस्पताल का एक और डॉक्टर और पांच अन्य कर्मी के सोमवार को कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई. इसके साथ ही जहांगीरपुरी स्थित इस अस्पताल के करीब 65 कर्मचारियों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी है. Also Read - सुप्रीम कोर्ट ने कहा- श्रमिकों से बस-ट्रेन का किराया न लें, सरकारों ने मजदूरों के लिए जो किया उसका नहीं हुआ फायदा

इस बीच, उत्तर दिल्ली नगर निगम द्वारा संचालित हिंदू राव अस्पताल में प्लू क्लिनिक सहित आपातकलीन वॉर्ड और तीन बर्हिगमन रोगी विभाग की सेवाएं सोमवार को बहाल कर दी गई. इस अस्पताल की एक नर्स के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद सेवाएं स्थगित कर दी गई थी. वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रविवार तक अस्पताल के 59 कर्मचारियों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी. Also Read - पुलिस ने बेरोजगार हुए शख्स को चोरी करते पकड़ा, आपबीती सुन लेडी सब इंस्पेक्टर ने घर पहुंचाया राशन, फिर...

उन्होंने बताया, ‘‘ 69 लोगों के नमूनों की जांच की गई थी जिसकी रिपोर्ट सोमवार को आई. इनमें से पांच लोगों के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई. कुछ नमूने दूसरी प्रयोगशाला में भेजी गई जहां से आई रिपोर्ट में एक व्यक्ति के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई. इसके साथ ही अब तक अस्पताल के 65 कर्मचारियों के संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी है.’’ Also Read - Coronavirus Effect: अब इस राज्य में पोस्टमैन घर-घर पहुंचाएंगे आम और लीची, जानें क्या है सरकार की प्लानिंग

अधिकारी ने बताया कि इस गंभीर संकट के बाद अस्पताल को आंशिक रूप से बंद कर दिया है. उत्तरी दिल्ली के जिलाधिकारी दीपक शिंदे ने बताया, ‘‘ नाजुक हालत में भर्ती मरीजों का अब भी इलाज चल रहा है और अस्पताल प्रबंधन उनकी देखभाल कर रहा है.’’

वहीं हिंदू राव अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि प्रशासन नर्स की सहकर्मी द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच के बाद आई रिपोर्ट का रिपोर्ट का अध्ययन कर रहा है. नर्स की सहकर्मी ने आरोप लगाया था कि लक्षण दिखने के बाद उस छुट्टी नहीं दी गई. उत्तर दिल्ली नगर निगम की आयुक्त वर्षा जोशी ने बताया कि अस्पताल परिसर को रविवार को संक्रमण मुक्त किया गया.