नई दिल्ली: केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस को नक्सलियों का धमकी भरा पत्र मिलने के बाद इसे एकजुट हो रहे विपक्षी दलों से जोड़ दिया. जेटली ने शुक्रवार को विपक्षी दलों पर अप्रत्यक्ष वार करते हुए फेसबुक पोस्ट में कहा, “दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ राजनीतिक दल एनडीए विरोधी अभियान में माओवादियों को अपने औजार के रूप में देखते हैं.एनडीए विरोधी अभियान में माओवादी ताकतों का इस्तेमाल न सिर्फ सरकार के खिलाफ है, बल्कि यह संविधान के भी विरुद्ध है. Also Read - FM Arun Jaitley Hints At Low Tax Rates Due To Demonetisation digi-payments| वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने दिए संकेत, नोटबंदी से घट सकती है टैक्स की दरें

arun-jaitlly-fb

‘एक और राजीव गांधी’ पर सियासी घमासान
बता दें कि महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव की हिंसा के बाद 5 आरोपियों की गिरफ्तारी हुई है. महाराष्ट्र पुलिस ने अपनी जांच में एक पत्र में बताया है कि माओवादी पीएम मोदी और सीएम देवेंद्र फड़नवींस पर हमला करने की योजना पर काम कर रहे हैं. पत्र में हमले की योजना में ‘एक और राजीव गांधी’ का उल्लेख है.

विरोधी दलों के लिए माओवादी औजार
जेटली ने अपने फेसबुक पोस्ट में कहा, “दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ राजनीतिक दल एनडीए विरोधी अभियान में माओवादियों को अपने औजार के रूप में देखते हैं. आतंकवाद और उग्रवाद का इतिहास हमें यह सीख देता है कि बाघ की सवारी कभी मत करो, अन्यथा उसका पहला शिकार आप ही बनोगे.”

माओवादियों के हमदर्द लोकतंत्र के मुहावरों का प्रयोग करते हैं
सीनियर बीजेपी नेता ने कहा कि माओवादी न सिर्फ सरकार को, बल्कि संवैधानिक व्यवस्था का हिंसा से पलटने में विश्वास रखते हैं. माओवादी व्यवस्था में कोई मौलिक अधिकार, कानून व्यवस्थ, संसद और और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता नहीं होती है.  वित्तमंत्री ने कहा, “लेकिन अपने राजनीतिक आधार बढ़ाने के लिए उनसे हमदर्दी रखने वाले लोकतंत्र के मुहावरों का खूब प्रयोग करते हैं.”

नक्सली गतिविधियों पर जताई चिंता 
जेटली ने अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा कि माओवादी गतिविधियों में बढ़ोतरी चिंतनीय है. पिछले कुछ दिनों से उग्रवाद प्रभावित क्षेत्रों के अलावा अन्य क्षेत्रों में भी माओवादी गतिविधियां बढ़ी हैं.

राजनीतिक दलों को प्रतिक्रिया देना चाहिए
केंद्रीय वित्त मंत्री जेटली ने अपने फेसबुक पोस्ट में कहा, “यह खतरनाक प्रवृत्ति है जिसे सभी राजनीतिक दलों को समझना चाहिए और उस पर अपनी प्रतिक्रिया देनी चाहिए.” उनकी यह टिप्पणी पुणे में पुलिस को कोरेगांव-भीमा में हुई जातीय हिंसा में माओवादियों का हाथ होने की बात सामने आने पर आई है. वहां पुलिस को मिले पत्रों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस की हत्या की योजना का संकेत मिला है. (इनपुट: एजेंसी)