गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल के इस्तीफ़े की पेशकश के बाद अब नए मुख्यमंत्री के नामों को लेकर राजनैतिक गलियारों में अटकलें तेज हो गई हैं। आनंदीबेन के इस्तीफ़े और उनके बाद गुजरात के नए मुख्यमंत्री नाम की घोषणा मंगलवार शाम दिल्ली में होने वाली भाजपा संसदीय दल की बैठक में हो सकती है। Also Read - दिग्विजय ने राम मंदिर शिलान्यास की तिथि को बताया अशुभ मुहुर्त, PM मोदी से किया टालने का अनुरोध

Also Read - यूपी की राज्यपाल आनंदी बेन को मिला मध्यप्रदेश का अतिरिक्त प्रभार, शिवराज मंत्रिमंडल के विस्तार की सुगबुगाहट तेज

गुजरात के मुख्यमंत्री पद के लिये वरिष्ठ मंत्री नितिन पटेल का नाम प्रबल दावेदारों में शीर्ष पर है पार्टी में वरिष्ठ होने के साथ-साथ वो पटेल नेता भी हैं। पटेलों का मानना है कि गुजरात में 40 फ़ीसद पटेल मतदाताओं को देखते हुए कोई पटेल ही मुख्यमंत्री होना चाहिए। Also Read - योगी सरकार का पहला मंत्रिमंडल विस्तार, 18 नए चेहरे शामिल, ये बने कैबिनेट मंत्री

नितिन पटेल का गृहक्षेत्र मेहसाणा है। पटेल आंदोलन की जन्मभूमि भी मेहसाणा ही है। लेकिन पटेल समुदाय नितिन पटेल से नाराज है, इसलिए उनके मुख्यमंत्री बनने की संभावना न के बराबर है। यह भी पढ़ें: PM मोदी की चेतावनी के बाद आनंदी बेन पटेल ने दिया मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा

इसके अलावा प्रदेश सरकार में मंत्री सौरभ पटेल का नाम भी शीर्ष दावेदारों की लिस्ट में है। वो रिलायंस परिवार के दामाद और उद्योगों के चहेते हैं। लेकिन यह बात उनके खिलाफ जाकर उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी से दूर कर सकती है।

नरेंद्र मोदी अपने विरोधियों को यह कहने का मौक़ा नहीं देंगे कि सौरभ के जरिए गुजरात सरकार रिलायंस इंडस्ट्री चला रही है। सौरभ भी पटेल जाति के हैं। लेकिन उन्हें भी इसका नुक़सान उठाना पड़ सकता है।

केंद्रीय मंत्री और राज्यसभा सांसद पुरुषोत्तम रूपाला का नाम भी सबसे आगे है। रुपाला भी पटेल ही हैं। लेकिन उन्हें हाल ही में केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। इसके चलते देखा जाए तो वो एक तरह से मुख्यमंत्री पद की रेस से बाहर हो सकते हैं।

इसके अलावा सबसे प्रबल दावेदारों में गैर पटेल नेता और गुजरात भाजपा के अध्यक्ष विजय रूपाणी का नाम भी चर्चा में है। वो गुजरात भाजपा के अध्यक्ष और मंत्रिमंडल के सदस्य हैं।

रूपाणी से पहले कोई भी प्रदेश अध्यक्ष मंत्रिमंडल का हिस्सा नहीं रहा। सबसे खास बात यह है कि उन्हें अमित शाह का क़रीबी और भरोसेमंद माना जाता है। अगर शाह की चली तो रूपाणी का मुख्यमंत्री बनना लगभग तय है।

फोटो क्रेडिट-बीबीसी

फोटो क्रेडिट-बीबीसी

गुजरात भाजपा के संगठन में शामिल भीखूभाई दलसाणी भी मुख्यमंत्री पद के लिये सबसे साफ सुथरी छवी वाले दावेदारों में से एक हैं। उनका व्यक्तित्व विवाद से दूर रहा है।

कयास लगाए जा रहे हैं कि भाजपा की जो मनुवादी छवि उभर रही है, उसे देखते हुए नया मुख्यमंत्री दलित या आदिवासी भी हो सकता है। भाजपा ने अभी तक गुजरात में किसी दलित या आदिवासी को इतनी बड़ी ज़िम्मेदारी नहीं सौंपी है।