नयी दिल्ली: ‘राजधानी’, ‘शताब्दी’ और ‘दुरंतो’ ट्रेन में सफर करने वाले यात्री अगर भोजन का विकल्प चुनते हैं तो उन्हें तीन से नौ प्रतिशत तक ज्यादा किराया देना होगा. खानपान की ये नयी दरें अगले साल 29 मार्च से प्रभावी होंगी. नये आदेश के मुताबिक वातानुकूलित प्रथम श्रेणी में मिलने वाली चाय की कीमत 15 रुपये से बढ़ा कर 35 रुपये, नाश्ते की कीमत 90 रुपये से बढ़ा कर 140 रुपये और दोपहर एवं रात्रि भोजन की कीमत 140 रुपये से बढ़ा कर 245 रुपये की गई है.

वहीं वातानुकूलित द्वितीय एवं तृतीय श्रेणी में चाय की कीमत 10 रुपये से बढ़ा कर 20 रुपये, नाश्ते की कीमत 70 रुपये बढ़ा कर 105 रुपये और दोपहर एव‍ं रात्रि भोजन की कीमत 120 रुपये से बढ़ा कर 185 रुपये और शाम की चाय की कीमत 45 रुपये से बढ़ा कर 90 रुपये की गई है. दुरंतो ट्रेन की शयनयान श्रेणी में सुबह की चाय की कीमत में परिवर्तन कर उसे 10 रुपये से 15 रुपये, नाश्ते की कीमत 40 रुपये से 65 रुपये , दोपहर एवं रात्रि भोजन की कीमत 75 रुपये की बजाए 120 रुपये और शाम की चाय की कीमत 20 रुपये से बढ़ा कर 50 रुपये की गई है. राजधानी, शताब्दी और दुरंतो ट्रेनों में सफर के दौरान परोसे जाने वाले भोजन की कीमत पिछली बार 2013 में बढ़ाई गई थी.

जायके वाला नाश्ता परोसने की भी शुरुआत करने का फैसला
आदेश के मुताबिक क्षेत्रीय जायके वाला नाश्ता परोसने की भी शुरुआत करने का फैसला किया गया है. इस नाश्ते (350 ग्राम) की कीमत 50 रुपये होगी. आदेश में कहा गया है कि आईआरसीटीसी नये शुरू किए जाने वाले भोजन के विकल्पों को इस तरह से उपलब्ध कराएगा कि भोजन की मात्रा एवं गुणवत्ता उनकी कीमतों के अनुरुप हो और सेवा प्रदाता को किसी तरह का अनुचित लाभ न मिल सके. राजधानी/ शताब्दी/ दूरंतो ट्रेन में पूर्व भुगतान के आधार पर मिलने वाले भोजन एवं उनकी दरों तथा मेल या एक्सप्रेस ट्रेनों में तत्काल भुगतान पर मिलने वाले भोजन एवं उनकी कीमतों की समीक्षा आईआरसीटीसी से प्राप्त अनुरोध और बोर्ड द्वारा गठित भोजन एवं शुल्क समिति की अनुशंसाओं को ध्यान में रखते हुए की गई है.

चाय एवं मानक भोजन की कीमत 40 रुपये से 130 रुपये के बीच
मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों के लिए चाय एवं मानक भोजन की कीमत 40 रुपये से 130 रुपये के बीच होगी. इन ट्रेनों में मिलने वाले भोजन की कीमत इससे पहले 2012 में बढ़ाई गई थी. रेलवे ने कहा कि भोजन की दरों में इजाफा करने का मकसद यात्रियों को ज्यादा किस्में उपलब्ध कराना एवं भोजन की स्वच्छता तथा गुणवत्ता को सुधारना है. व्यंजन सूची और इन सेवाओं की कीमतों में सुधार को आंकने एवं सुधार की अनुशंसा के लिए रेलवे बोर्ड की ओर से एक समिति गठित की गयी थी.

कुल टिकट किरायों में तीन से नौ प्रतिशत की बढ़ोतरी
रेल मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि समिति ने भारतीय रेलों में सफर करने वाले यात्रियों को बेहतर एवं स्वच्छ भोजन उपलब्ध कराने के लक्ष्य को जहन में रखते हुए सभी पहलुओं को वैज्ञानिक तरीके से जांचा. अगर यात्री भोजन का विकल्प चुनते हैं तो जिन ट्रेनों में भोजन के लिए पूर्व में भुगतान करना होता है उनके कुल टिकट किरायों में तीन से नौ प्रतिशत की बढ़ोतरी होगी. जलपान की ये नयी दरें 29 मार्च, 2020 से प्रभावी होंगी.”

जनता भोजन की दर में कोई बदलाव नहीं
जनता भोजन की दर में कोई बदलाव नहीं किया गया है और वह 20 रुपये ही है. इसमें कहा गया कि व्यंजन सूची की अलग-अलग खाद्य सामग्री के नाम पर ज्यादा पैसे वसूले जाने से रोकने के लिए, अब तय किया गया है कि इस तरह का कोई खाना मेल या एक्सप्रेस ट्रेन में नहीं बेचा जाएगा. हालांकि समोसा, पकोड़ा और व्यंजन सूची में शामिल अन्य नाश्ता सामग्रियों की बिक्री की इजाजत होगी. यह भी तय किया गया है कि बिरयानी की लोकप्रियता को देखते हुए इसे मानक भोजन के तौर पर परोसा जाएगा. आईआरसीटीसी तीन तरह की बिरयानी – वेज, अंडा और चिकन बिरयानी उपलब्ध कराएगा जो क्रमश : 80 रुपये, 90 रुपये और 110 रुपये में मिलेगी.