श्रीनगर: तेजी से बढ़ती बलात्कार की घटनाओं के संबंध में ट्वीट करने वाले 2010 बैच के यूपीएससी परीक्षा के टॉपर शाह फैसल के खिलाफ जम्मू-कश्मीर सरकार ने अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की है. फैसल को भेजे गये एक नोटिस में सामान्य प्रशासन विभाग ने कहा है, आप कथित रूप से आधिकारिक कर्तव्य निभाने के दौरान पूर्ण ईमानदारी और सत्यनिष्ठा का पालन करने में असफल रहे हैं जो एक लोक सेवक के लिए उचित व्यवहार नहीं है. सूत्रों के अनुसार, विभाग ने केन्द्र के कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग के अनुरोध पर फैसल के खिलाफ कार्रवाई शुरू की है. Also Read - Jammu and Kashmir: जम्मू कश्मीर के शोपियां में मुठभेड़ में तीन आतंकवादी ढेर

फैसल ने ट्वीट किया था , जनसंख्या + पितृसत्ता + निरक्षरता + शराब + पॉर्न + तकनीक + अराजकता = रेपिस्तान. Also Read - भारत से कपास और चीनी आयात नहीं करेगा पाकिस्तान, मुद्दे को कश्मीर से जोड़ा

यह पोस्ट कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग को नागवार गुजरा. नोटिस मिलने के बाद उसकी एक प्रति ट्वीट करते हुए फैसल ने लिखा है, दक्षिण एशिया में बलात्कार के चलन के खिलाफ मेरे व्यंग्यात्मक ट्वीट के एवज में मुझे मेरे बॉस से प्रेम पत्र (नोटिस) मिला है. Also Read - Jammu and Kashmir: श्रीनगर के लावायपोरा में सीआरपीएफ पार्टी पर आतंकी हमला, एक जवान शहीद, तीन घायल

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में फैसल ने कहा कि नौकरशाही इसे लेकर अति उत्साह दिखा रही है. मुझे नहीं लगता कि इसपर किसी भी तरह की कार्रवाई होगी. उन्होंने कहा कि रेप सरकार की पॉलिसी का हिस्सा नहीं है. रेप की घटनाओं की आलोचना करना सरकार की नीति की आलोचना करना नहीं है.